पॉपुलर श्रेणियां

{{ cat.n}}


जिस प्रकार से कोरोना के मरीज बढ़ रहे हैं, क्या संपूर्ण लॉक डॉउन फिर से हो सकता है?


8 जवाब
   


 Bolkar Saurabh Rai


देखिए अभी कि अगर हम लोग बात करें तो लोग डाउन वाली जो स्थिति जो है अब कहीं ना कहीं हमारे हाथ से स्थिति ज्वाइन निकल चुकी है सरकार ने संक्रमण की प्रवृत्ति और कहीं ना कहीं तीव्रता को समझने में बहुत बड़ी गलती कर दी है मोदी जी को उम्मीद थी कि 16 मई तक भारत जो है वह संक्रमण मुक्त हो जाएगा इसलिए 21 दिन का लॉक डाउनलोड पर चिकित्सक सरकारी तैयारी नहीं थी जैसे कि डी मोनेटाइजेशन में हुआ था ऐसे ही अभी भी हुआ और 21 दिनों के लॉक डाउन में युद्ध स्तर पर टेस्टिंग कि हमें कहीं न कहीं जरूरत थी जिससे कि हम क्या करते संक्रमित हो का पता करते उनको अलग कर सकते थे पर हमारे पास टेस्ट किट और टेस्ट इक्विपमेंट की उपलब्धता ही नहीं थी मतलब कि जब हमें प्यास लगी तब कुआं खोदना प्रारंभ हुआ और ऐसी स्थिति में असफलता ही हाथ लगती है अभी क्या है कि संक्रमण इतनी तेजी से फैल रहा है कि अब ढेर सारे समाधान हो भी तो उसको नियंत्रण करना बहुत मुश्किल है एक सख्त लॉक डाउन बहुत हद तक संक्रमण को रोकने में सफल होगा क्योंकि अर्थव्यवस्था 10 से 15 दिन और रुक की रहेगी तो भी देश पर ज्यादा प्रभाव नहीं पड़ेगा लेकिन अगर लाखों लोग संक्रमण से बच जाएंगे परंतु अब लगता नहीं है कि अब अगर सरकार इतनी लार्ज स्केल पर टेस्टिंग करेगी और फिर पुनः लॉग डाउन करेगी तो अब यह कहीं न कहीं विकल्प हमारे हाथ से अर्थव्यवस्था को रोकने वाला वह भी जा चुका है क्योंकि बहुत सारे लोग हैं उनकी बहुत दयनीय स्थिति हो रखी है मैं खुद अपने बहुत सारे लोगों को जानता हूं जो हमारे लिए जो खाना बनाते थे या जो हमारे घर में काम करने आते थे उनकी हालत आज भी है कौन के पास खाने तक के लिए पैसे नहीं है तो ऐसी स्थिति में फिर से दोबारा लॉक डाउनलोड आकर लाखों जिंदगियां फिर से स्टेट पर हो जाएंगी जैसे अभी पर वही है कि अब मैं सेवर बीच में फंसे हुए ना तो हम आगे जा सकते हैं ना तो पीछे जा सकते हैं धन्यवाद
इस जवाब पर कमेंट करें





इस जवाब पर कमेंट करें





इस जवाब पर कमेंट करें




आज भारत कोरोना वायरस से पीड़ित देशों में पांचवें नंबर पर हैं और तू और दो लाख से ज्यादा केसेस अब तक देखे जा चुके हैं वैसे तो सोशल डिस्टेंसिंग एक बेहतरीन उपाय है पर मैं आपको बता दूं कि महीनों तक यह करना आर्थिक आर्थिक व्यवस्था को उतर पकड़ कर सकता है और एक नई स्टडी ने हमें क्रोना बार इस महामारी से लड़ने के लिए एक उपाय या फिर या फिर कहीं तू स्टार्ट जी बताई है जिसमें केसेस भी हाथ से ना छूटे और आर्थिक व्यवस्था भी चलती रहे चढ़ी के हिसाब से पहले 50 सिम का लॉक डाउन और फिर 30 दिन का आराम और ऐसे करते रहने से महामारी कंट्रोल में रह सकती है और तो और यह कठोर लॉक डाउन और फिर कुछ दिनों का आराम के मेल से हम सब लोग गरीबों को कमाने का एक समय भी देंगे और आर्थिक स्थिति को इस तरह सास भी मिलेगी मैं आपको बता दूं कि यह स्टडी में मैं 19 को मैं बता दूं कि यह यूरोपियन जोनल ऑफिस डलहौजी ने कंडक्ट करी पर उन्होंने यह नहीं बताया कि हमें कब तक करना होगा तो हां ऐसा कहना सही होगा हाथी थोड़ी समय के बाद लोग डाउन फिर से घोषित किया जाए
इस जवाब पर कमेंट करें





इस जवाब पर कमेंट करें





इस जवाब पर कमेंट करें





इस जवाब पर कमेंट करें





इस जवाब पर कमेंट करें



ऐप में खोलें