#टेक्नोलॉजी

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:45
नमस्कार दोस्तों बरसने की डीमैट अकाउंट क्या होता है कहां डीमैट अकाउंट खुलवाना सही रहेगा तो दोस्तों डीमैट अकाउंट एक प्रकार का अकाउंट है जैसे कि आपका बैंक अकाउंट है उसमें पैसे की बस वैल्यू पता चलती है कि आपके पास पैसे कितने हैं ऐसी शेयर खरीदने के लिए डिवेंचर खरीदने के लिए ऋण पत्र भी बोलते हैं और शेयर को अंश बोलते हैं उनको खरीदने के लिए आपको एक डीमैट अकाउंट खुलवाना पड़ता है जैसे कि आपने किसी से जैसे कि कंपनी का शेयर खरीदा मान लेते हैं कि रिलायंस इंडस्ट्री का खरीदा तो शेयर तो आपके खाते में उसको शेयर उसकी क्वांटिटी दिखाने लगेगा और उसकी जो भी मार्केट वैल्यू उसके हिसाब से वैल्यू दिखाने लगेगा जब आप देखेंगे तो आपको एक जैसा ही चेक बुक की दिया जाता है बैंक में पैसे निकालने के लिए वैसे भी आपको एक किताब दी जाती है उसके शुरू आप ले सकते हैं कि आप और हटाने किसी को ब्रोकर को दे दे तो वह भी डिजिटल माध्यम से भेज सकता है ऑनलाइन भी आप ट्रांजैक्शन कर सकते हैं बात होती है कि डीमैट अकाउंट कहां खुलवाना सही रहेगा तो दोस्तों अगर किसी से टाइप हो गया लेना चाहती हैं तो आप किसी ब्रोकर से खुलवा सकते हैं और कई लोग देखें किसकी ब्रोकरेज में भी फर्क होता है जैसे कि 30 पैसे हो तीन पैसे चल रहा है आजकल जो ट्रेंड है जैसे ट्रेडिंग के लिए तीन पैसे और अब ओल्ड करते हो 30 पैसे अब आपको कंपेयर करना है कि ऑनलाइन वाले भी जैसे कि कई देते हैं ब्रोकरेज अगर आप ज्यादा ट्रेडिंग करना चाहते हैं तो आपको ब्रोकरेज कहां से मिलेगी तो लोग जाकर किसी ब्रोकर से करवा दें किस से संपर्क करते रहे अगर आप सदा ऑनलाइन करना चाहते हो तो बहुत सारे बैंक से जैसे आईसीसी बैंक का अभी मैटर अकाउंट खुलवा सकते हैं या एसबीआई बैंक द्वारा खुलवा सकते बहुत सारी सुविधाएं देते हैं बैंक वालों ने ललक से सिक्योरिटी सिक्योरिटी खुली हुई अपने अलग-अलग कंपनी खुली होती टिप्स देती है सबसे बढ़िया जो कि अगर ऑनलाइन खोलना चाहते तो आईसीआईसी की डिमैट अकाउंट्स के चार्ज है तो ज्यादा है लेकिन रिपोर्टिंग मारा काफी अच्छी है धन्यवाद

#जीवन शैली

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
0:56
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है क्या गलतियां इंसान को सही मार्ग दिखाती है या सिर्फ नुकसान ही करती हैं तो दोस्तों हमेशा गलती से कुछ ना कुछ सीखने को मिलता है अगर मान लो कोई हरी हरी घास है उसके नीचे गड्ढा है तो एक बार आप गड्ढे में गिरेंगे तो आपको अगली बार के लिए सजग हो जाएंगे कि हां जी इससे मेरे को चोट लगी थी यहां पर हरि कोई चीज है तो मेरे को सावधानी से चलना है और पता लगा लेना है गड्ढा तो नहीं है ऐसी जीवन में लोग कहते हैं मेरे को बहुत सारे मैंने घाट घाट का पानी पिया में को बहुत अनुभव है आने की बहुत सारी इसमें गलतियां की कोशिश करी है उसमें जैसे बड़े बुजुर्गों होते हैं क्योंकि मुझे अनुभव होता है उन गलतियों से पता होता है यह करेंगे तो गलती हो गया क्या होगा तो जीवन में गलतियां निश्चित रूप से कुछ ना कुछ हमें सिखाती है मार्गदर्शन करती हैं ऐसा नहीं है कि गलती से हमेशा नुकसान ही होता है गलती से कई बार लोग उससे सीख लेते हैं कि अगली बार को गलती हमें नहीं करनी है निश्चित रूप से गलती से नुकसान के साथ सीखने को भी बहुत कुछ मिलता है धन्यवाद

#जीवन शैली

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:13
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि लड़कियों के पहनावे पर सवाल उठते हैं तो दोस्तों और लड़कियों के सवाल पहनाओ से ज्यादा शहरों में उठते हैं और कुछ सनकी ने बुद्धि के ग्रामीण क्षेत्र में उनके भाई यह रिश्तेदार है वह विषय कोई कमेंट ना करें कब किया ना करें उसकी वजह से उस पर सवाल उठाते हैं बात कर लेते हैं शहरों में तो शहरों में दोस्तों ऐसा बच्चे प्रभावित हो जाते हैं मूवीस से और सीरियलों से जिसमें की नग्नता परोसी जाती है बच्चे बहुत मासूम होते हैं इतने मच्छर नहीं होते हैं देखिए उनका तो नाच गाना करने का फिल्म इंडस्ट्री वालों का शरीर अंग प्रदर्शन करने का उनका पेशा है उससे तूने पैसे मिलते हैं लेकिन उसको हम कॉपी करें जिस समाज में रहने दो दिन की दुनिया फिल्म इंडस्ट्री बनोगे तो अगर समाज में जाते हैं तो निश्चित रूप से लोग अलग दिखाई देते हैं और वह अच्छा नहीं लगता है फूफा नेक जो है आप उसको देखेंगे पुरुष सबसे ज्यादा थके होते हैं अगर आप सुपोषण कंपेयर करें तो जो कपड़े महिलाओं के जितने अंग प्रदर्शन करने वाले होंगे ज्यादा महंगे होंगे अगर आप कभी भी ध्यान दें कि आप समाज से कैसे अलग रह रहे हैं कि मैं गांव में जाता हूं कैसे पेंट शर्ट पहनते हैं तो कुत्ते भोंकने लग जाते हैं और जो कि वह हमेशा लूंगी में लोगों को देखते हैं वहां पर ऐसी जब समाज में एक महिला यात्री अभद्र निकलती है तो निश्चित रूप से लोग देखेंगे उसको और कई लोग इसका विरोध करते हैं तो उसको लोग संकीर्णता का नाम दे देते हैं कि इसकी बुद्धि संघ है पहनने में कपड़ा कोई दिक्कत नहीं है लेकिन शरीर के अंग तक लेनी चाहिए उनको समझना चाहिए ग्रामीण क्षेत्रों में देखा गया कई बार भाई कहते हैं कि बहन को जींस पहने से मना कर देते हैं वह ऐसा नहीं है कि वह कुछ ऐसा गलत करते हो सब लड़कियां बहुत कम निकलती है जींस पहन के आया वह परिधान कम पहनती हैं तो कई बार मनचले लड़के यार यार दोस्त उनको ऐसा कुछ बोल देते हैं उसके बारे में इसलिए उसको इनसिक्योरिटी फील होती है उसके भाई को धीरे-धीरे सोच बदलनी होगी और लेकिन लड़कियों के लिए मैं कहना चाहूंगा कि तू हरता वाला वस्त्र नहीं होना चाहिए आप ज्वेलरी के शोरूम में जाइए लेकिन लड़कियां बिल्कुल साड़ी में शालीनता में रहती है बिल्कुल अच्छा भी लगता है धन्यवाद

#जीवन शैली

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
0:59
दोस्तों प्रश्नों की 40 वर्ष की उम्र के बाद महिलाओं को कैसे मेकअप करना चाहिए तो दोस्तों मेकअप से खेले कोई बंदिश नहीं नहीं होनी चाहिए चाहे 20 साल की उमर हो जाए 40 साल की और 4 साल की हो मेकअप उसको अच्छा लगना चाहिए उसके परिवार वालों को ना अच्छा लगना चाहिए और जहां जा रही है उसके समाज वालों को अच्छा लगना चाहिए तो कई बार आप देखेंगे कि ब्यूटी पार्लर वाले ऐसे बेरंग बना लेते हैं वह अपने सोचती है कि महिला कि मैं बहुत अच्छी सुंदर लग रही है लेकिन दो लोग हंस रहे होते हैं तो दोस्तों मेकअप कर आने के बाद अपने पति से या किसी रिश्तेदार से या मित्र से जरूर पूछें कि मैं कैसी लग रही हूं उसके बाद ही आप कहीं फंक्शन वगैरह में जाएं कई बार ऐसा होता है कि हम फर्स्ट टाइम देखते हैं क्योंकि मेकअप के बाद चेहरा बदल जाता है ब्यूटी पार्लर में जाकर तो आप कहीं हाथ के पात्र तो नहीं बन रहे मजाक के पात्र तो नहीं बस आपको इतना ध्यान रखने में कोई भी कराया उम्र का कोई हक नहीं है आप 80 साल के 9 साल के हो मस्त रहें जैसा आपको अच्छा लगे वैसा करें धन्यवाद

#जीवन शैली

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:06
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि विधवा सफेद कपड़े क्यों पहनती है कि वह रंगीन कपड़े नहीं पहन सकती तो दोस्तों पहले ऐसी अंधविश्वास है पिछड़ापन था क्योंकि कलर की अपनी साइकोलॉजी हो चुका होता है सफेद रंग शांति का प्रतीक है कोई बहुत प्यार करने वाला और कुछ हो जाता है उसका पति तो वह ज्यादातर सफेद वस्त्र पहनती है धीरे धीरे धीरे लोगों को समझ आई विकास की तरफ गए अंधविश्वास कम हुआ वह महिलाएं रंगीन कपड़े पहनते हैं लेकिन आप देखेंगे किसी की मृत्यु हो जाती है शहरों में खासतौर से प्रकार के कपड़े पहनते हैं वह किसी ने बनाया नहीं है वह समाज ने बनाया है फिल्म इंडस्ट्री ने बनाया है जैसे कि फिल्म इंडस्ट्री में कोई पिक्चर आई है शंकर ना होता तो मर गया तो सारे लोग सफेद कपड़े पहन कर आते हैं तो धनवान व्यक्ति होते हैं पैसे वाले व्यक्ति होते हैं तो बहुत फ्रेंड में चलते हैं सारी चीजें उसका देखा देखी सब लोग सोचते हैं कि हां भाई यह पहनना चाहिए सफेद बस या कोई भी वस्त्र पहन लेंगे कोई दिक्कत नहीं है लोगों की भर्ती आ रही है पहले कोई पोस्ट संस्कृति अब धीरे-धीरे लोग समय में लगे हैं इन सब चीजों को धन्यवाद

#टेक्नोलॉजी

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:03
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि ब्लाउज के बटन पीठ की तरफ से क्यों होते हैं आगे की तरफ क्यों नहीं दोस्त को बताना चाहता हूं हो सकता है कि इस प्रश्न करता नहीं प्रश्न पूछा है उसने इससे परिचित ना हो जी ब्लाउज के बटन ज्यादातर आगे ही होते हैं आप ग्रामीण क्षेत्रों में जाओगे वहां पर जो महिलाएं पहनती है वह आगे के ही ब्लाउजों आजकल के फैशन आ गया फिल्म इंडस्ट्री से लोग देखकर शहरों में खासतौर से कौन चला रहा है तो पीछे के बटन होने फैशन का एक पार्ट है जैसे कि पुरुषों के साथ होते हैं उसमें आजकल नीचे से देखेंगे कि आप अगर सूट पहनते हैं तिकोना बनाना डिजाइन दार बनाए जा रहे हैं ऐसी ब्लाउज में भी आगे भी बटन होते हैं और बहुत सारे ब्लाउज में पीछे भी होते हैं और आजकल आगे भी होते हैं 23 का पाठ है इसके अंदर तो यह बिल्कुल आप स्वस्थ रहें कि यह बटन दोनों तरफ हो आगे भी हो सकते हो पीछे भी हो सकते हैं धन्यवाद

#टेक्नोलॉजी

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
0:58
नमस्कार दोस्तों का स्नेह क्या मोबाइल फोन के कारण कलाई में घड़ी पहनने की आवश्यकता कम हो गई है तो निश्चित रूप से दोस्तों इस की अब जरूरत नहीं महसूस होती है पहले लोग टाइम देखने के लिए पेपर देने जाते तो पहनते थे बच्चे लग गए हैं आजकल डिजिटल घड़ी और मोबाइल से घड़ी समाप्त नहीं है मोबाइल में समाप्त कर दी है जैसे पहले आया करता था कई सालों को समाप्त हो गया है और जो स्कैनिंग का काम है जो स्कैनर्स यूज़ करते थे वह खत्म हो गई है आजकल छुट्टी पत्र देने का खत्म हो गया है आजकल काम तो फीमेल सही जा रहे हो जाती है तो आजकल फैशन मात्र हो गई है सोशल स्टेटस की महंगी घड़ियां आ रही है और नहीं तो ऐसा लगता है कि घड़ी वॉच लगती है कि जब टाइम ही देखना है तो मोबाइल में तो है यह क्यों खड़ी पहननी तो निश्चित रूप से यह सब तेरा जो आपने प्रश्न पूछा है धन्यवाद

#स्वास्थ्य और योग

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
3:03

#रिश्ते और संबंध

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:21
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि आजकल के समय में लोगों को दूसरा बच्चा पालना मुश्किल क्यों लगता है तो दोस्तों बहुत सारे जो आजकल महिलाएं हैं वह अपने कैरियर के प्रति काफी जागरूक हैं और वह भी अपने पति के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलना चाहती हैं और जब बात आती है दूसरे बच्चे की तो उसे ऐसा लगता है कि मेरे कैरियर में कहीं बाहर आओ ना जाए मेरे को छुट्टी लेनी पड़ेगी कहीं मेरी नौकरी ना चली जाए फिर उसके मन में ऐसा भी लगता है कि कहीं मेरा शरीर तो खराब नहीं हो जाएगा ठीक है खराब नहीं हो जाएगी कई जगह में दिखाएं पति चाहते हैं लेकिन पत्नी नहीं चाहती है तो फिर पति जिद नहीं करता है और एक मैंने जैसे पहले ही बताया था कि आंसुओं में जैसे कि एक बच्चा तो असली चाहता है हो तुम चाहत होती है कि पत्नी को भी उसका लगता है कि मैं और महिलाओं से अलग नहीं हूं मैं भी माता बनने लायक हूं और भारत में पुरुष चाहता है कि पुरुष अब तो सो कर देता है कि हम ही मैं भी बच्चा पैदा करने लायक हूं तो इसलिए 1 बच्चे तक आते हैं फिर वह सोचते हैं कि दूसरा बच्चे को हम एक बच्चे को पाल पोस ले इसको सही से स्टडी कराने की सोच गलत होती हम तो इतना पैसा होता है कि एक बच्चा भी खर्च नहीं कर पाएगा इसके कई दूसरा बच्चा ना होने के काफी बुरे नतीजे भी होते हैं बहुत सारे बच्चे हैं जो अकेले रहते हैं उसे अकेलापन महसूस होता है खेलने के लिए आजकल तो पड़ोसी के बच्चे भी उपलब्ध नहीं होते हैं क्योंकि उसका भी एक बच्चा होता है फोकस रहता कहां जा रहे हैं पहले हमारे घरवाले पूछते भी नहीं थे कब आए कब नहीं तो फोन भी नहीं था लेकिन आजकल एक तरह से मां-बाप का पूरी निगरानी रहती है तो बच्चे को अकेलापन महसूस होता है घर में भी बाहर भी फिर अकेला ही रहने लग जाता है बाद में बढ़ाओ मां-बाप से भी अकेले रहना अच्छा लगने लगा वीडियो चला दो बच्चे कम से कम होना जरूरी है 2 बच्चे पैदा करने की याद बहुत ज्यादा वही बच्चे पैदा एक ही कर रहे हैं या कहीं और से तो हो ही नहीं रहे हैं आजकल भागा दौड़ी में इसलिए आयुर्वेद सेंटर खोल रहे जा रहे हैं और मीडियम फैमिली के आप देखेंगे नॉर्मल फैमिली के गरीब व्यक्ति को दो या तीन बच्चे पढ़ते हैं तो मैंने पहले ही बातें सबसे बड़ा कारण है

#खेल कूद

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:33
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि बच्चे ज्यादा देर बाहर नहीं खेलते हैं क्या करें तो दोस्तों बहुत ही अच्छा उपाय है आप बच्चे को स्वयं लेकर जाएं पार्क में उसके साथ खेले और उसको कोशिश करेंगे उसके हमउम्र बच्चों के साथ मिल पाए क्योंकि आप देखते होंगे कि पिल्ला पिल्ले के साथ खेलता है बच्चा बच्चे के साथ खेलता है बूढ़ा बूढ़ी के साथ सहज महसूस करता है युवावस्था का व्यक्ति युवा अवस्था वालों के साथ बैठना अच्छा महसूस करता है ऐ मेरे दोस्त को यह उदाहरण दे दिया तो वह बुरा मान गए हो क्या ताजी बिल्ला बिल्ली के साथ बैठता है तो क्या है मैंने कहा मेरी भावनाएं समझो मैंने बताना चाह रहा था कि वहां कुछ दिखाई दे रहे थे तो उसने क्या है हर व्यक्ति या पशु पक्षी अपने हम उनके साथ बहुत अच्छा महसूस करता है तो आजकल बहुत सारे बच्चे इसे घर में निकल दिया एक ही बच्चा से पूरा फोकस रहता है कहां गया कहां गए थे वह गीत तो नहीं किया तो चिंता ज्यादा रहती है तो बच्चों को आप खेलने निकलेंगे खुद भी खेलेंगे तो निश्चित रूप से बच्चा भी बाहर रहेगा खेलेगा आप कोई बैडमिंटन या फुटबॉल खेल सकते पकड़म पकड़ाई खेल सकते हैं और बच्चों के साथ मिल पाएंगे और बच्चों को भी खिलाएं तो देखेंगे बहुत ही मजा आएगा मैं काम करता रहता हूं और काफी प्रसन्न रहता हूं मैं और पारक में बैडमिंटन की टीम है और मैं छोटे बच्चों के साथ भी बचपना व्यतीत करता हूं बहुत सारे पार्क में बच्चे होते हैं वह दौड़ लगाता हूं उनको कुछ करवाता हूं खाली समय में बहुत मजा आता है आपको भी आएगा धन्यवाद

#खेल कूद

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:48
नमस्कार दोस्तों प्रश्न ही क्या मर जाना है है सभी समस्याओं का समाधान है तो दोस्तों कई बार ऐसा जब ज्यादा मानसिक दबाव में कोई व्यक्ति आ जाता है ऐसे विचार उस को प्रेरित करते हैं मृत्यु की तरफ लेकिन दोस्तों में बताना चाहता हूं कि जीवन में उतार-चढ़ाव आते रहते हैं जीवन में खुशी गम आते रहते हैं 8400000 योनियों के बाद अच्छे कर्म करने के बाद मनुष्य जीवन प्राप्त होता है किसी को पहले वह मच्छर बनाओ का हाथ से किसी ने मार दिया होगा या गुड नाइट लगा कर मार दिया होगा सांप बना होगा घर में निकला कुचल दिया गया होगा ऐसे कितनी योनियों को जेल के वह मनुष्य जीवन प्राप्त करता है कितने हम खुश किस्मत हैं कि हम मनुष्य जीवन में है और हमें परेशानियों को का सामना करना है परेशानी हो तो आती रहती हैं कभी आपको ज्यादा परेशानी आएगी तो कभी खुशी कभी पल आते हैं ऐसा कभी नहीं होता है खुशी और गम सिक्के के दो पहलू हैं एक बार आप सिक्का देखेंगे तो हेड आएगा दूसरा टेलर आएगा ऐसे ही खुशी भी आए गम भी आएंगे तो हमें जीवन पथ पर निरंतर चलते रहना है और अच्छे से अच्छे काम करते रहना है और निश्चित रूप से हमें आनंद आएगा मनुष्य जीवन जीने का तो समस्या है उसका समाधान करें अपने मित्रों से बात करें मैं दोस्तों से बात करें परिवार वालों से सहायता ले निश्चित रूप से उसका सामान मिल जाता है जो कि हम मन में अपनों से घिरे रहते हैं उस समय निकालें योग साधना करें खेलकूद करें यार दोस्तों में मिले तो निश्चित रूप से समस्याओं का समाधान होगा फिर आपको देखोगे कि जिंदगी रंगीन नजर आने लगेगी धन्यवाद

#जीवन शैली

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
3:00
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है की लड़ाई खतरनाक प्रश्न है प्लेटफार्म पर क्या स्त्रियों का दिमाग पुरुषों की तुलना में कम होता है तो दोस्तों में बताना चाहता हूं कि स्त्रियों का दिमाग निश्चित रूप से पुरुषों की तुलना में कम होता है बहुत सारे लोग मेरे को स्त्री विरोधी भी बताने लगेंगे कॉलेज में में तथ्य रखता था तो लोग कई महिला मेरी सहपाठी थी लड़कियां जो बुरा भी मान जाते थे लेकिन यह एक मनोवैज्ञानिक तर्क भी है मैंने कई जगह पड़ा था इसके अंदर उसके पीछे तथ्य होते हैं ऐसा कुछ नहीं है भगवान ने स्त्री हो या पुरुष सभी को एक जगह समान दिमाग दिया है लेकिन सबसे ज्यादा विश्व में जो बुद्धिमान व्यक्ति माने गए हैं वह चाणक्य माने गए हैं या उनके पैरों को माना गया है तो आपने चाणक को क्यों ध्यान दिया होगा कि वह बिल्कुल गंजे रहा करते यानी कि कहीं ना कहीं मस्तिष्क का प्रभाव या मस्तिष्क की स्वर्ण शक्ति हमारे बालों पर भी निर्भर करती है तो ज्यादातर महिलाओं के बाल घने होते हैं उससे थोड़ी सोच में फर्क आ जाती है इस महीने में शक्ति कम होती है ऐसे ही हमारे जो सीख भाई बंधु हैं उनका सर बना रहता है उसकी वजह से भी काफी बुद्धि में फर्क पड़ता है या जो मांस का सेवन जैसे कि सिख भाई कई लोग करते हैं उससे भी मस्तिष्क पर प्रभाव पड़ता है तो आप ज्यादातर देखेंगे जो इंटेलिजेंट टॉप पोस्ट पर महिला होगी वह जात्रा आजकल बॉय कट होती है और जहां तक कॉन्फिडेंस लेवल की बात होती है तो लड़कियां चप्पल है पहनना ज्यादा परेशान करती है उससे भी हमारी शक्तियां निकल जाती हैं तो आप देखेंगे कि जो आजकल हर पोस्ट पर होंगी या महिलाएं वाली या जूती पहनती होंगी तो कुछ मनोवैज्ञानिक कारण भी हैं कुछ बॉडी लैंग्वेज का तरीका भी है कि सर पर ज्यादा घने बाल होने की वजह से भी बुद्धि में फर्क हो सकता है तो इसका उत्तर निश्चित रूप से सही है लेकिन हम ऐसा नहीं कह सकते कि महिलाएं पुरुषों से कहीं पीछे हैं आजकल कदम से कदम मिलाकर आगे निकल रही हैं वह चाहे शिक्षा के क्षेत्र में हो चाहे आर्मी के क्षेत्र में हूं चाहे मेडिकल के क्षेत्र में हूं हर क्षेत्र में वह पुरुषों को मात दे रही हैं लेकिन कुछ हद तक जैसा प्रश्न पूछा गया उसमें सच्चाई भी है

#भारत की राजनीती

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:36
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि मैं बोलकर पर अपने सवाल का जवाब दो देने का प्रारंभ किया तो मैंने तीन सवाल का जवाब दिया पर तीनों में से किसी सवाल पर भी यूज़ नहीं आए तो मैं दोस्त आपको यह बताना चाहता हूं कि आपने तो भी प्रारंभ किया है आप जवाब देते रहे हो सकता है कि शुरू में अभी आप प्रैक्टिस कर रहे हैं दे रहे हैं तो जवाब देने में इतना जोश ना आ पाए धीरे-धीरे आप देखेंगे कि आपके जवाब में दम होगा तो धीरे-धीरे व्यू जाना लाइक सुनाओ सब ठीक है ना ना प्रारंभ होगा यह तो अभी आप का प्रारंभ है आप यह मत देखें कि मेरे व्यूज कितने आ रहे हैं मेरे सब्सक्राइबर कितने बढ़ रहे हैं आप निरंतर प्रयास करते रहिए प्रश्नों का उत्तर दीजिए लेकिन यह ध्यान रखिए जिस प्रश्न के मैं कहीं डाटा की जरूरत पड़ती है कई विशेष ज्ञान की जरूरत पड़ती है तो उस प्रश्न का उत्तर जब तक आप को ना पता हो तो ना दें क्योंकि बहुत सारे लोग क्या करते हैं की लाइफ के चक्कर में ही न्यूज़ के चक्कर में सब शिक्षण के चक्कर में सभी प्रश्नों का उत्तर देते रहते हैं तो अभी तो इस पर ट्रैफिक बहुत कम है कोई बात नहीं वह प्रतियोगिता में भी आगे निकल सकता है वक्ता लेकिन आगे आने वाले समय में लोग उसको एक तरह से नकारात्मक रूप से देखेंगे क्योंकि वह जानेंगे कि यह तो सभी प्रश्नों का उत्तर दे देता है इसको जानकारी नहीं है तो एक अपनी आइडेंटिटी बनाकर रखें जो प्रश्न का उत्तर आप दे सकते हैं या कॉमन प्रश्न हैं जो समाज से जुड़े हैं आप अपनी राय दे सकते हैं लेकिन जिस में अगर कोई विशेष प्रकार की जानकारी की जरूरत है या तो उसकी आप तैयारी करके दे कहीं से स्टडी करके दे तो ज्यादा अच्छा रहेगा और निश्चित रूप से आपके पर्वयू जाएंगे सब्सक्रिप्शन आएगा मेरी शुभकामनाएं आपके साथ हैं धन्यवाद

#स्वास्थ्य और योग

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:00
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि पान जलाकर खाने वाले का मुंह क्यों नहीं चलता है तो दोस्तों बहुत ही सरल प्रश्न है और जैसे कि पान को जलाया जाता है इसके अंदर तो जैसे ही वह मुंह में जाता है वैसे ही हमारे मुंह के अंदर ऑक्सीजन का प्रवेश बंद हो जाता है कार्बन डाइऑक्साइड होती है उसके आसानी से भूल जाता है हमें लगता है कि वह जलता हुआ खाया है लेकिन वह जाता है वैसे भी हमारी जो शरीर 30 सेकंड तक तापमान को खेलने लायक होता है आप अभी कोई गर्म चीज को दे हल्का सा टच करते हैं आपका हाथ नहीं जलता है लेकिन ज्यादा कर चल जाता है ऐसा हम लोग बचपन में काफी किया करते थे लोगों को आकर्षित करने के लिए दोस्तों को मुंह में तीली डाल लेते तो मुंह बंद कर लेते थे जल्दी भी पीली को मुंह में डालते थे बंद कर लेते थे तो निश्चित रूप से अंदर बुझ जाएगी जैसा मैंने बताया ऐसे ही मैं पान के साथ है तो अचानक आग लगी होती है कोई ऐसी चीज होती है जैसे मुंह में जाता है वह बंद हो जाता है इसलिए इसमें किसी काजल नहीं सकता है धन्यवाद

#जीवन शैली

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:41
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि आजकल बहुत से युगल जीवन भर बिना बच्चे रहने की योजना बना रहे हैं ऐसे दंपतियों को क्या आप कोई सलाह देना चाहेंगे तो दोस्तों भारत में ऐसे दंपत्ति बहुत कम ही होंगे जो बच्चे को नहीं चाहते होंगे क्योंकि जो हमारा भारतीय पुरुष का मस्तिष्क तो है वह एक बच्चा तो अभीष्ट चाहता है और उसकी पत्नी भी एक बच्चा बच्चे चाहती है पुरुष इसलिए चाहता है कि वह अपना पुरुषत्व का प्रमाण दे सके और उसकी पत्नी इसलिए भी चाहती है कि वह औरों से अलग ना हो बंजर भूमि जैसे कि उसे ना लगे वह भी अपने आप को फल टाइल दिखाना चाहती है तो एक बच्चा था जरूर चाहते हैं लोग और दूसरा बच्चे की जो प्लानिंग कर रहे हैं हम लोगों को में काफी बदलाव आता है सोच में बदलाव आ गया है जॉब में इतना बिजी शेड्यूल चलता है वह छुट्टी लेनी पड़ेगी 9 महीने के लिए 1 साल के लिए तो अपने कैरियर से बचाव करने के लिए वह आजकल अडॉप्ट करने की बातें भी करते हैं मेरे कई मित्र हैं तो अब बदलाव आ रहा है लोग एक बच्चे से ही संतुष्ट हैं क्योंकि एक बच्चा दो मजबूरी हम को रखने के लिए हमको एक तरह से खिलौना चाहिए और समाज में दिखाने के लिए भी चाहिए और अपनी संतुष्टि के लिए बच्चा चाहिए लेकिन बहुत सारे लोगों में ऐसी है भ्रांतियां पैदा हो रही है कि बच्चा जैसे फौरन कंट्री माता की खास जरूरत नहीं है जिंदगी हमारी चल रही है चलती रहेगी क्योंकि दोनों हस्बैंड भाई बहुत अच्छा कमा जाकर वही ऐसा सोचते हैं अन्यथा अगर कोई ग्रहणी घर पर है वह बोर हो रही हो तो निश्चित रूप से बच्चा जाती है उसको सामाजिक दबाव भी रहता है तो इतनी धीरे बदलाव समाज में देखने को आ रहा है धन्यवाद

#स्वास्थ्य और योग

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:19
स्टार उत्सव प्लस नहीं क्या आपने कभी दही चूड़ा खाया है क्या आप जानते हैं कहां खाया जाता है और कब दोस्तों बहुत ही आसान प्रश्न है यह दही छुड़वा ज्यादातर पूर्वांचल क्षेत्र में खाया जाता है मैं यूपी से जैसे कि आता हूं तो वहां पर शहीद दही छुड़वाया जाता है और खिचड़ी के दिन यानी कि मकर संक्रांति 14 जनवरी के समय प्रातः काल सवेरे जो नाश्ता होता है लोग चिड़वा और उसमें दूध और दही डालकर और गुलाल के खाते हैं गांव में और हम लोग भी शहर में रहने दिल्ली में तो हम लोग भी खाते हैं और शाम को खिचड़ी बनाई जाती है और इसका प्रयोग इस समय तो होता ही है इसका महत्व होता है लेकिन वैसे भी लोग खाते हैं घर में तो यह पूर्वांचल क्षेत्र में खाया जाता है और मैं दूसरी जगह उधर गया तो कई जगह तो इसको पोहा बनाकर दिखाए आता है मध्यप्रदेश में जब जो जेल में गया तो उसके कई प्रकार की चीजें बनती हैं तो पोहा भी खाया जाता है लेकिन वही छुड़वा यूपी बिहार के लोग आपको पूर्वांचल क्षेत्र के हाथे मिलेंगे उनका एक मुख्य यह एक तरह से आहार भी है और पसंदीदा हार भी है और पौष्टिक वाला आहार भी है धन्यवाद

#जीवन शैली

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
0:56
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि छोटे बच्चे कंबल या रजाई नहीं उड़ते हैं रात में ठंड से बचाने के क्या उपाय हैं तो दोस्तों बहुत ही सरल उपाय इसका उनको आप स्वेटर वगैरह पहनाकर सुलाएं और गहरी नींद में सो जाएं तो बीच में आप उसके उनको कंबल या रजाई उड़ा सकते हैं कई बार छोटे बच्चों को पैर मारने की भी आदत होती है तो बीच में आप ध्यान रखें जब भी आती नहीं टूटती है तो आप उन्हें कंबल उड़ा दे इसके अंदर रजाई उड़ा दे और नहीं तो जब उन्होंने स्वेटर पहन रखा है और आप थोड़ी सी और सुरक्षा के लिए सर पर भी ठंड लगती है तो उसमें टोपी पहना देंगे बच्चों को तो ठंड से बचाव हो सकता है तो उसमें कोई जिंदा करने वाली बात नहीं है धीरे-धीरे बच्चे भी आधी हो जाते हैं जब बड़े होने लग जाते हैं ठंड में और बच्चों के हाथ होती है मां बाप को पकड़कर सोने की अगर वह साथ सोते हैं तो वैसे भी कोई दिक्कत वाली बात नहीं है आप का ध्यान रखें बस रात को जब आपकी नींद खुले तो उनको एक बार कंबल उड़ा दे धन्यवाद

#पढ़ाई लिखाई

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:17
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि बिहार का शिक्षा हालत कब सुधरेगा तो देखो दोस्तों बिहार हो चाहे यूपी मां की शिक्षा पद्धति बहुत ही कमजोर है सबसे बड़ी विडंबना की बात है तो बिहार में नीतीश सरकार ने क्या किया कि 10 10000 में टीचरों को भर्ती कर लिया ऐसा लगा कि लोगों को काफी लोगों को रोजगार तो प्राप्त हो गया लेकिन वह भविष्य के साथ खिलवाड़ है वह खुद अंग्रेजी बोल नहीं पाते खुद गिनती नहीं कर पाते खुद पढ़ नहीं पाते हैं ऐसी घरेलू महिलाओं को जो कई बॉर्डर पर भी थे यूपी के वहीं आ के आवश्यक तत्व ने भी से सजाव ले रहे हैं सब शिक्षा की जो है शिक्षक भी नहीं होंगे उसमें आपका काफी दूर होगा भर्ती सलेक्शन सही नहीं होगा तो शिक्षा पद्धति आती रहेगी जब रक्षक ही भक्षक हो जाता है यानी कि यानी कि जब टीचर को ही ज्ञान नहीं है तो वह गलत गलत चीज ही बताएगा तो एक तो वहां की राजनीति में जब तक कोई बस नहीं आएगा जब तक शिक्षा का महत्व नहीं रहेगा ऐसा नहीं है कि बिहार के लोग सबसे बच्चे यूपी बिहार के बहुत प्यार का लैंड होते हैं जिसके पास समर्थ है वह पैसा है वह जाकर शहरों में पड़ता है या अपना 2012 के बाद खराब होने के बाद संघर्ष करता है शहरों में और सफल भी होता है लेकिन सबसे बड़ी जो पूरे देश की शिक्षा नीति है वहां पर टीचर की कमी है और कमी के साथ-साथ उसमें ज्ञान और अनुभव का ना होना है और शिक्षण एक ऐसा व्यवसाय है या प्रोफेशन बोल सकता है जिसके तरफ लोग आकर्षित नहीं होते खासतौर सरकारी नौकरी प्राप्त करने घर ही आकर्षित होते हैं कि सरकारी नौकरी है लेकिन आप प्राइवेट कोचिंग में देखेंगे बड़े-बड़े जो टीचर सोते हैं वह आकर्षित हो तन का पैकेज बहुत अच्छा होता है लेकिन सरकारी में जो B.Ed का एक पेग लगा रखा है जिसकी वजह से क्वालिटी टीचर्स मार्केट में नहीं आ पाते हैं लोग कहीं सफल हो जाते हैं तो शिक्षक बनने की उनको लोग सलाह देते हैं दो B.Ed जेबीटी पतंजलि राज्यों से कर कर के आगे शिक्षक बन जाते हैं तो शिक्षा नीति में इसका सुधार होना जी के शिक्षक एक अच्छा हो उसको कैसे मापदंड उसका बनाया जाए उसको ध्यान रखना चाहिए धन्यवाद

#स्वास्थ्य और योग

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
0:54
नमस्कार दोस्तों प्लस नहीं क्या संजू में एसी कोच का एसी बंद कर दिया जाता है तो दोस्तों में ऐसा नहीं होता है ऐसे ही चलता रहता है क्योंकि जब वह सारा चीज है बंद होता है तो उसमें लोग असहज महसूस करते हैं तो वेंटिलेशन के लिए हवा को गंदी हवा को बेवफाई करने के लिए प्रकार से इसी को चलाया जाता है क्योंकि सारे लोग सांस लेते हैं तो वहां वैसे ही गर्मी हो जाती है आप कई बार देखेंगे मेट्रो में बहुत भीड़ होती है तो वहां ऐसी चलाया जाता है मॉल्स में भी एवन सर्दियों में भी ऐसी चल रहा होता है जहां पर भीड़ ज्यादा हो जाती है वेंटीलेशन की समस्या है वहां ऐसी चलाना जरूरी हो जाता है तो एसी कोच में सर्दियों में ऐसी चलता है हां वह बीच में उसे बंद कर दिया जाता है या बहुत वो टेंपरेचर पहले चला जाता है उसको टेंपरेचर को बढ़ा दिया चढ़ा दिया जाता है लेकिन उसको जलाया जाता रहता है धन्यवाद

#जीवन शैली

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:05
दोस्तों प्रश्न है कि किसी भी बिजनेस को बड़ा कैसे करें तो दोस्तों यह हर एक बिजनेसमैन मैन के मन में रहता है कि मेरा व्यापार बड़े लेकिन सबसे ज्यादा जो परेशानी वाला कार्य होता है वह पूछी की कमी पूरी कमी सबसे बड़ा एक बाधक है व्यापार को बढ़ाने में लोगों के पास ऐसा नहीं है कि तुझे नहीं होती लेकिन वह आगे भविष्य की चिंता करते आगे बच्चों की पढ़ाई के लिए रखा होता है सारी पूंजी व्यापार में नहीं जीत सकते हैं या तो व्यापार बहुत तीव्र गति से चल रहा है उसके पास नहीं से कमाई हो तो उसको बड़ा करने की कोशिश करता है और बड़े दुख की बात है कि जो लोन वास्तव में चुकता कर सकता है उसकी मंशा खराब नहीं है उसको बैंक से लोन नहीं मिलता है लोन मिलता है बड़े व्यापारी को जिसकी मैंने चैटिंग है या बड़े अमाउंट को लेकिन सरकारी परिसर में आपको हुआ 20 25000 का लोन मिल सकता है जो कि वह ऊंट के मुंह में जीरा ही साबित होता है व्यापार के लिए तो दोस्तों हमें पूंजी जुटाने की जरूरत होती है उससे व्यापार बढ़ जाता है या आजकल थोड़े डिजिटल माध्यम से थोड़े सस्ते सालों से ने व्यापार के उस को बढ़ाया जा सकता है या एक ऐसी गुडविल बनाने आप आपके प्रोडक्ट में ऐसा दम हो जिससे स्वता ही लोग खिंचे चले आएं लेकिन खींचे कैसे चले आएंगे लोगों को पता ही नहीं चलेगा एडवर्टाइजमेंट की कॉस्ट कितनी ज्यादा है इस समय तो सारी चीज पूंजी का खेल है लेकिन दिल कल माध्यम से आभार जगह बहुत सारे साइटें हैं ऐसी जो पैसे नहीं लेती है मैंने भी बहुत जगह करा रखा है उससे भी फायदा होता है डिजिटल थोड़ा आइए तो या अमेजॉन फ्लिपकार्ट पर आप सामान बेचते हैं कोई सर्विस भेजते हैं तो अर्बन क्लैप पर आईएस बहुत सारी साइट है वहां से आपको कुछ आराम से मिल सकता है ऐसी लेट फॉर्म से कुछ आपको कस्टमर से मिल सकते हैं और अपनी गुणवत्ता बनाए रखिए निश्चित रूप से व्यापार बढ़ेगा लेकिन वही एक कहीं ना कहीं कमी आपको पूंजी की ही पड़ती है या तो कोई आफ पार्टनर्स आ सकते हैं या किसी से आसानी से लोन मिल जाए तो उसी से व्यापार बन सकता है धन्यवाद

#स्वास्थ्य और योग

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:09
नमस्कार दोस्तों प्रार्थना है कि हम अपने घर में कौन से पौधे रखें जिससे हमारे आसपास की हवा सुंदर है तो दोस्तों कोई भी पौधा आप लगाएंगे अपने घर में उसे निश्चित रूप से आप का वातावरण शुद्ध रहेगा लेकिन बहुत सारे ऐसे पौधे होते हैं जो बाहरी जीवित रह पाते हैं हमको धूप की जरूरत पड़ती है घर में आप मनी प्लांट लगा सकते हैं या स्नेक प्लांट एक आता है वह भी लगा सकते हैं या अन्य प्रकार क्या माली से संबंध करके आप ऐसे पौधे लगा सकते हैं और थोड़ा सा आपका अगर घर के बाहर के रसिया छज्जे बोलते हैं वहां पर वहां पर है तुलसी के पौधे लगा सकते हैं या अन्य कडीपत्ता लगा सकते हैं जो आपके घर में काम भी आएगा और कई सारे आफ ग्रीनरी दिखाई देगी पौधे लगाएंगे जिससे उसे तो मन को शांति मिलती है और शुद्ध हवा भी आपके आएंगे जिसे मनी प्लांट ओं स्नेक प्लांट आपको बताया वह प्यूरीफायर के रूप में भी उनका नाम लिए जा कर के विशेषज्ञ बताते हैं कि वह प्रदूषण को दूर करते हैं तो आप यह लगाएंगे तो निश्चित रूप से आप की हवा सुधरेगी और पड़ोसियों की भी हवा सुधरेगी और वातावरण भी सुधर जाएगा धन्यवाद

#धर्म और ज्योतिषी

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
0:54
दोस्तों की क्या भागवत गीता पढ़ने से सच में मन और जिंदगी की उथल-पुथल थम सकती है तो दोस्तों निस्संदेह उथल-पुथल हम सकती हैं और भगवत गीता के साथ अन्य कोई या धार्मिक पुस्तक पढ़े उससे भी आपको मन को शांति मिले करा रामायण पढ़ सकते हैं या कोई अन्य धर्म है के लोग हैं तो गुरु वाणी जैसे लोग पढ़ते हैं किसी ना किसी वक्त किसी ना किसी रूप में भगवान का ध्यान करेंगे एकांत में रहेंगे और निश्चित रूप से उसे काफी चीजें सीखने को मिलती है भागवत गीता से तो बिल्कुल सारी चीजें सीखने को मिलती हैं तो क्या रामायण से हमें बहुत कुछ सीखने को मिलती है कोई भेद पड़ता है उससे काफी चीजें सीखने को मिलती हैं तो निश्चित रूप से जो जीवन में चक्कर चल रहे हैं जिससे लोग परेशान होते हैं दुखी रहते हैं कुछ ना कुछ जरूर उसे ज्ञान प्राप्त करके हमें न्याय प्राप्त हो सकती है तो भगवत गीता पड़े हैं या अन्य पुस्तक भी बड़े से पूर्ण रुप से आपको लाभ होगा धन्यवाद

#स्वास्थ्य और योग

bolkar speakerगंजापन कैसे दूर करें?
Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:32
गंजापन कैसे दूर करें तो दोस्तों इसका उत्तर इस ऐप पर नहीं मिलेगा ना कहीं मिलेगा हां देवेंद्र देवेंद्र लोगों से झोलाछाप लोगों से आप मिलेंगे तो बहुत सारे तेल भी नजर आएंगे आपको मार्केट में बाल उगाए लेकिन दोस्तों बाल उग नहीं सकते एक बार झड़ गए तो हां आपने कोई प्रोटीन की कमी है तो आप कुछ रुक सकते हैं गंजापन हो रहा है तो जैसे कि आप खा सकते हैं क्या कहते हैं कि अंकुरित चने प्रोटींस कुछ ले सकते हैं खान-पान को चेंज कर सकते हैं या किसी आप डर्मेटोलॉजिस्ट को दिखा सकते हैं कुछ ऐसे अगर आपके अंदर कोई कमी है तो लेकिन गंजापन बहुत सारी चीजों पर निर्भर करता है तो हेरेडिटरी होता है कुछ इसके अंदर या कुछ चीजें ऐसी हो जाती है कि जो है पानी में अमोनिया की मात्रा कोयल पानी ऐसा है आ रहा है शहरों में खासतौर से गंजा लोक आपको दिखाई देंगे तो कारण हो सकते हैं या प्रदूषण भी एक कारण हो सकता है अब बड़े बड़े लोगों को देखेंगे गंजापन हो रहा है तो बच्चों में भी हो रहा है गंजापन को सारे लोगों के लिए से शादी नहीं होने लग जाती है आजकल करने के लिए बहुत सारे बाल उगाने का कारोबार बढ़ता जा रहा है तो एक तो चिंतित ना हो गंजापन हो उससे भी टेंशन से भी चीजें होती हैं अगर मादक पदार्थों का सेवन करते हैं उस से परहेज करें और किसी डॉक्टर थोड़ा सा खाएंगे और जो है हरी सब्जियां खाएंगे तो उससे निश्चित थोड़ा बहुत फर्क पड़ सकता है धन्यवाद

#खेल कूद

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:37
दोस्तों प्रश्न है कि मकर संक्रांति का त्योहार भारत की विभिन्न भागों में किन-किन नामों से जाना जाता है तो दोस्तों ज्यादातर यह त्यौहार मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है लेकिन कई जगह मैं पढ़ रहा था इसके विभिन्न विभिन्न नाम है जैसे कि अगर हम पूर्वांचल की बात करें तो वहां पर से मकर संक्रांति के साथ खिचड़ी के नाम से भी जाना जाता है इस दिन जुड़वा दही दूध लोग सुबह खाते हैं और शाम को खिचड़ी बनाई जाती है अगर इसे हम जम्मू एंड कश्मीर में बताएं तो उसकी शुरू संक्रात बोला जाता है हरियाणा में कई लोग उड़िया मैगी भी बोलते हैं आसाम में माघ बिहू बोलते हैं गुजरात की साइड अगर राजस्थान की साइज चले जाएं तो वह उत्तरायण भी बोला जाता है और केरला में म्हारा मिला को बोलते हैं तमिल में आप सब लोग जानते हैं पुंगल बोलते हैं आंध्रा में पीड़ा पांड्या बोलते हैं और कई जगह अलग-अलग जैसे नाम है और वेस्ट बंगाल में भी इसका नाम सक्रांति होता है या कुछ और नाम उसके पहले ऐड कर देते हैं वह सारी चीजें आती रहती है उसके अंदर जैसे कि आपका वेस्ट बंगाल में है पोस्ट सक्रांति के नाम से जाना जाता है वेस्ट बंगाल ए पोस्टर क्रांति जैसे बताया तो ज्यादातर कहीं ना कहीं वार्ड आप देखेंगे उसमें शब्द लगा हुआ संक्रांति लगा हो गया बहुत ही कॉमन नाम जो है खिचड़ी ज्यादा प्रमुखता से नाम ले जाता है या पुंगल थोड़ा सा ज्यादा लाइट में रहता है या उत्तरायण भी बोलते हैं के अंदर तो यह ज्यादा जो मैंने नाम बताएं ज्यादा प्रसिद्ध है धन्यवाद

#जीवन शैली

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:25
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है किसी व्यक्ति को उधार देने से मना करने के लिए क्या उपाय करने चाहिए तो दोस्तों अब यह दोस्त यह प्रश्न उठता है कि आपका उस व्यक्ति से रिश्ता कैसा है ऑफिस का कुली है क्या व्यापारी है आपका मित्र है क्या आपका रिश्तेदार है बहुत सारी चीजें इस पर भी निर्भर करती हैं क्योंकि आपको मना करने के लिए सोचना पड़ता है वह खास करीबी मांगता है तो उसके लिए अलग तरीके है आपके लेकिन आप लोगों को बता सकती हो कि आप हमेशा अपने पास ऐसे खाली रखता ही नहीं हूं मैं तो शेयर से मुसलमानों का नाम रखता हूं हमें को बेचने पड़ेंगे जैसे मेरे साथ होता कई लोग दोस्त भी मांगते पैसा वास्तव में मेरे पास पैसा नहीं होता है क्योंकि इसमें मैं शेयर्स मुचल फंड स्मार्टफोंस में रखता हूं तो उससे जल्दी मना कर देता हूं तुमको पता रहता है कि अरे सच में यह काम करता है तो वहां पर को टरका सकते हैं और दूसरा उसको पता है कि आपका पैसे हैं तो आपको तुरंत मना ना करें कई बार ऐसा होता रिश्तेदारी में या खास मित्र में तुरंत में लोग बुरा मान जाते हैं आप बोले कि मैं जुगाड़ करता हूं एक-दो दिन का समय ले और से स्पष्ट कर दें या तो कहीं और से भी ट्राई करते रहो मेरे साथ जुगाड़ नहीं हो पाया तो मेरे आपके ना होते कि स्पष्ट से बताएंगे तो उसे भी लगेगा कि हां भैया धोखा नहीं दे रहा है मेरे को सब बता रहा है और बाद में आप से मना कर सकते हो और कोई मित्र हैं आप का सच में आपसे कभी लेनदेन कर रखा है आप कुछ अमाउंट दे सकते हो कोई आपसे मानो 20000 मांगा है तो उसे आप 5000 दे सकते हो 10 या जैसा कि आपको ऐसा लगता है कि आप उससे कैसा संबंध है और वापस आने की क्या उम्मीद है वैसे कहीं आप बहाने बना सकते हो धन्यवाद

#फिल्में

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:10
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि लोगों में बॉलीवुड के प्रति इतना गुस्सा क्यों है तो दोस्तों बॉलीवुड के प्रति गुस्सा युवाओं में तो नहीं है लेकिन जो इन सब चीजों को समझते हैं उनमें गुस्सा इसलिए है क्योंकि वह प्रत्यक्ष रुप या अप्रत्यक्ष रूप से अश्लीलता को हड़ताल नग्नता को परोस रहे हैं उसमें सोशल मीडिया मीडिया इलेक्ट्रॉनिक मीडिया जिसे हम कहते हैं वह भी शामिल है पहले से ही ऐसा चला आता जा रहा है कि हम बॉलीवुड को हीरो हीरोइन बताते हैं वास्तविक में घर में माता-पिता हैं गुरुजन हीरो हैं हमारे और जो आपके कोरना वैरीयस हैं या सीमा पर बॉर्डर पर लगे हुए इतनी कड़कड़ाती ठंड में असली भी हीरो हो है लेकिन शुरू से ही बच्चों को पढ़ाया जाता है मस्तिष्क में सब भर दिया जाता है कि वह एक हीरो है अब उन किसी का बच्चा पैदा हो गया तो उसको इतना हाईलाइट कर दिया जाता है तो बच्चे तो सबके घर में पैदा होते हैं उसकी गंदी गंदी फोटोशूट से होती है उससे पैसा कमाया जाता है क्योंकि कंपनी को पता है कि भारत के लोग इन सब चीजों को पसंद करते हैं फैंस हैं जिसे बोलते हैं लेकिन वह असली हीरो को भूल जाते हैं अपने माता-पिता को गुरुजनों को अपने रिश्तेदारों को और जो बैरियर से हमारी सेवा कर रहे हैं डॉक्टर से और सुरक्षा बल है हमको भूल जाते हैं तो इसलिए लोग बॉलीवुड से गुस्सा रहते हैं और सुशांत का किशन सिंह का केस आया उसमें पैसे बताई थी ऐसी चीजें तो उससे गुस्सा बनना है या कास्टिंग काउच के बारे में लोगों को जब पता चलता है तो गुस्सा बना रहे कारण है कि पहले कि आप चल चित्र देखें मां परिवार के साथ देख कर पूरे शालीनता में मूवीस बनी हुई है और उधर भी करते थे मधुबाला हो गई क्या कोई और हीरोइन सो गई लो आदर करते थे लेकिन अब जो धीरे-धीरे भरता आ रहा है ना आ गई है इसके अंदर सरकार आंसर बोर्ड हटा ले तो हो सकता है कपड़े भी ना पहने हीरो हीरोइन ना के बराबर ही पहनते हैं वह तो इसलिए गुस्सा है इससे हमारी संस्कृति पर एक प्रकार से प्रहार है धन्यवाद

#धर्म और ज्योतिषी

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:10
नमस्कार दोस्तों प्रश्न की स्त्रियों को किस अंग को चुना शुभ माना जाता है तो दोस्तों में बताना चाहता हूं आजकल करो ना कॉल में तो किसी को छूना भी गलत है लेकिन जहां तक शुभ मानने की बात है तो चाहे स्त्री हो या पुरुष वह आपसे श्रेष्ठ है तो उसके केवल चढ़ाई चरण ही छुए जाते हैं अन्यथा और कई लोग तो क्या करते हैं कि जो गुलाल बकरा भी आप पूर्वांचल में देखेंगे किसी बड़े व्यक्ति को गाल पर नहीं लगाते माथे पर नहीं लगाते स्त्रियों खासतौर से या अपने बड़े बड़े बुजुर्गों को प्यार पर गुलाल रखा जाता है तो उसका पता लगा सकते केवल चरण ही बंदिनी के लिए वे चाहे स्त्री हो जाए पुरुषों चाहे कितना भी श्रेष्ठ व्यक्ति हो आपके करीब हो तो आपको केवल चरण ही छूना शुभ माना जाएगा आशीर्वाद प्राप्त हो सकता है लेकिन आजकल का कलयुग में आप लोग चरण कहां छुपाते हैं आजकल तो घुटने तक आ गए हैं और मुंह से ही कर लेते लेकिन वंदनीय अशोक जो है चरण है या ध्यान रखिए आप सोते हैं तो हो सकता है आपका मामा तो हो आपका श्रद्धा हो लेकिन कई बार इसे अगर स्त्री की बात हो तो उसे सुशील का भी माना जा सकता है धन्यवाद

#टेक्नोलॉजी

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
1:26
नमस्कार दोस्तों प्राप्त नहीं क्या सॉफ्टवेयर इंजीनियर के रूप में बार-बार नौकरी बदलने से कैरियर को नुकसान पहुंचता है तो दोस्तों बहुत बार ऐसा होता है कि कंपनी के प्रोजेक्ट चल रहे होते हैं सॉफ्टवेयर कंपनी के द्वारा बार-बार छोड़ते हैं हां प्रोजेक्ट पूरा करके छोड़ते हैं और आप को अच्छी ओपनिंग मिलती है तो कोई दिक्कत नहीं है अगर आप प्रेशर हैं या अभी पूरे तैयार जमा नहीं पाए हैं इसके अंदर तो आपको बार-बार नौकरी छोड़ना है कि नेगेटिव सिद्ध होता है कि आप किसी को भी छोड़ कर जा सकते हो बीच में अगर थोड़ी सी आपको कोई मिले आकर आप इस टेबल नहीं होता है कि नकली होता लेकिन आप एक अच्छे मुकाम पर पहुंच लूंगा आपका काफी नाम है आप यह देख सकते हो कोई नौकरी छोड़ भी दूंगा तो मेरे को कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा अपना डिजाइन का तो उससे कंपनियां उसको या तो अपना शेरहोल्डिंग बोल देती है उसको अपना एक तरह से पाटनर बना लेती है इंदर ग्रुप से क्योंकि उसकी उसे पता होता है कि मार्केट वैल्यू उसकी काफी ज्यादा है कंप्यूटर काफी पैसे दे सकते हैं अगर आप उस मुकाम पर चले गए हो तब तो कोई बात नहीं है लेकिन बार-बार नौकरी छोड़ ना कम से कम 3 साल 2 साल आप कार्य करें हां बिल्कुल परेशानी हो या गैलरी में बहुत ज्यादा कदम हो तो तो कोई मालवा को चल रही 1200000 का पैकेज मिल रहा हूं 2400000 का पैकेज मिल रहा है तब आप विचार कर सकते हो लेकिन एक ₹200000 के लिए जब तक कोई परेशानी नहीं होगी किसी की जॉब के लिए नकारात्मक उसमें देखा जाता है धन्यवाद

#जीवन शैली

Pt. Rakesh  Chaturvedi ( Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant | Bolkar App
Top Speaker,Level 33
Tally Trainer | Tax - Investment -Consultant |
2:13
नमस्कार दोस्तों प्रश्न है कि मनुष्य सम्मान और पहचान का भूखा क्यों होता है तो दोस्तों बहुत सारे लोग ऐसे होते हैं जो सम्मान और पहचान के भूखे नहीं होते हैं वह जैसी दुनिया चल रही हो तो दुनिया चल रहे होते हैं लेकिन बहुत सारे ऐसे लोग हैं कुछ उनकी राशि भी ऐसी प्रेरणा देती है जैसे कि आप मेष राशि वालों को देखेंगे उनमें जन्म से ही एक नेता के या नेतृत्व करने के गुण होते हैं तो वह चाहता है कि मेरी पहचान वैसी अन्य राशियां भी है बहुत सारी और जब आप देखेंगे कि बड़े-बड़े ऋषि मुनि देवी देवता और राक्षसों ने भी आराधना की तो उत्सव प्रसन्न होकर वरदान दे देते थे तो ऐसे ही मनुष्य हैं मनुष्य की कोई आराधना करता है तो सम्मान देता है तो वह निश्चित रूप से वह एक कोई चीज देने लायक हो जाता या किसी का आप हेल्प सहायता चाहते हैं या किसी की स्तुति कर रहे हैं तो निश्चित रूप से होता है और बहुत सारे लोगों में ऐसा होता है कि सम्मान पहचान मिले क्योंकि वह लोगों से अलग दिखना चाहता है कई लोग ऐसे कार्य करते हैं और पहचान चाहते हैं लेकिन बहुत सारे ऐसे लोग हैं जो बहुत बड़ा काम कर देते हैं पहचान नहीं चाहते हैं तो सबका व्यक्तियों का अपना अलग-अलग स्वभाव है लेकिन कहीं ना कहीं अगर किसी को आप मान सम्मान देते हैं तो उसका मनोबल बढ़ता है उसको आंतरिक खुशी होती है निसंदेह आंतरिक खुशी होती है और कई बार अभिमान भी उसमें भर जाता है जब ऋषि मुनि अभिमान से बच नहीं पाए देवी देवता का विमान से बच नहीं पाए तो हम तो मनुष्य हैं लेकिन बहुत सारे लोगों को पहचान पसंद आता है सम्मान पसंद आता है यह समाज का या जहां पर रह रहे हैं वहां का रीति रिवाज का एक अंग भी हो सकता है तो लेकिन कई लोग झूठी सम्मान के लिए जैसे नेता हैं अपने ही कार्यकर्ताओं को पैसा देकर भी सम्मान कर आते हैं कि लोग उसको भी सम्मान करें ऐसा भी कुछ चलता रहता है बाजार में हर प्रकार के लोग हैं धन्यवाद
URL copied to clipboard