#टेक्नोलॉजी

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
0:29
जो भी विश्लेषण हैं उनसे यही पता चलता है कि सिग्नल हम सुरक्षित है और सिग्नल आपकी जो प्राइवेसी टर्म्स एंड कंडीशन से मैंने भी पड़ी है उस हिसाब से उस डाटा लीक होने की संभावना ही नहीं है वह आज भी पोस्ट नहीं करेंगे आपका देता किसी पर पार्टी को नहीं देंगे तो इस तरह से यह सुरक्षित मालूम पड़ती है और ज्यादा व्हाट्सएप छोड़ कर उस पर आते हैं तो धन्यवाद

#जीवन शैली

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:37
दुनिया की हर औरत की नजर में खाली नेपाली मूल सबसे बदसूरत होते हैं क्या तो यह सवाल बहुत दिलचस्प है और छुट्टी है आज के परिवेश में क्योंकि एक अंधी दौड़ है जिसमें सब भाग रहे हैं और हर इंसान चाहता है कि मैं आराम कीजिए कम से कम मेहनत में ज्यादा से ज्यादा बेनिफिट हूं ऐसे में अगर किसी लड़के से शादी कर ली जाए तो जिंदगी बहुत आसान हो जाएगी और यह वाकई में हो रहा है आज के डेट में और आप देखोगे कि यह इतना ज्यादा प्रबल अंदर इतना प्रचलित है कि गलत लगता ही नहीं है बल्कि अगर कोई ऐसा लड़की नहीं है उसके लोग सकते थे तो सारे लोग हैं शादी को एक ट्रांजैक्शन के जैसे लेते हैं रिश्ते को एक ट्रांजेक्शन के लिए कोलेत्जकी दिल होती है वहां पर कितना पैसा आया कितना आपका फोटो देखा जाता है उसके साथ बात की जाती है ऐसी लड़कियों से आपको रिश्ते नहीं रखने चाहिए बात नहीं करनी चाहिए आपके पैसे के पीछे हैं वह कल को आप को छोड़ देगी आपका ध्यान नहीं रखेगी आप से प्रेम नहीं करेगी तो अगर आपको ऐसा लग रहा है कि नहीं मम्मी के बारे में सोचा है जिस से बात कर रहा हूं बहुत ज्यादा मनी माइंडेड है और उसका भी तो क्या आप उस रिश्ते को हवा ना दे और उसी के साथ जिंदगी में आना चाहता है

#जीवन शैली

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:33
वक्त में किन चीजों को दूर कर देना चाहिए सबसे पहले तो जो नेगेटिव लोग हैं उनको दूर करें क्योंकि वह आपको और डिप्रैस करेंगे और ना किसी भी टिफिन लाएंगे और आप का मनोबल तोड़ने की कोशिश करेंगे दूसरा आपने यह करने आलस को छोड़ना है आपको सब मेहनत की जरूरत है आपको काम करते रहना चाहिए आपको आगे बढ़ते रहना चाहिए निरंतरता से इसलिए जो आपको यह ठाना है सबसे पहले यह देखना है कि कैसे मैं आगे बढ़ता रहा हूं परसों को उसको आपने ध्यान में रखना है और इसके बाद फिर आप को सबसे पहली चीज जो दूर करनी है वह है ऐसी एक्टिविटीज इन से टाइम वेस्ट होता है जैसे कि मोबाइल गेमिंग या ब्राउजिंग फेसबुक यूट्यूब बहुत समय ले ले लेते हैं आपका उनसे आपको पता है उनसे आपको अपना समय की बचत करनी है और उसका उसका समय को कार्य में अपने संलग्न करना है इसके बाद फिर आता है कि आप जरूर इस बात पर भी ध्यान दें कि कहां-कहां त्रुटि आ रही कहां-कहां मेरे सिस्टम में खराबी है कहां गड़बड़ हो रही है और मुझे कहां से उधार लेकर आना है उसके लिए प्लानिंग करें स्ट्रैटेजाइज करें फिर से रिजेक्ट कर दिया अपने गोल्स को मोटिवेशनल बुक्स पढ़ने मोटिवेशनल टॉक सुने और जरूरत पड़े तो ट्रेनिंग में ट्रेनिंग लेना बहुत जरूरी है उससे हमको प्यार की आती है कि हमको जीवन में क्या करना है क्या मेरे अंदर और विकास होना बाकी है कौशल का विकास सबसे महत्वपूर्ण है जरूर आपको करना चाहिए बाकी दूर कैसे रहना है छोड़ना किसको मैंने आपको बताया धन्यवाद

#स्वास्थ्य और योग

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:30
समझदार होने के लिए सुझाव क्या है लेकिन समझदारी आती है अनुभव से अब हर चीज को ही लेकिन अनुभव कर ले अपने जीवन काल में वह भी मुमकिन नहीं है तो एक शॉर्टकट है वह शॉर्टकट यह है क्या दूसरों की जीवनी आपणी इंटरव्यूज देखें आज तो जैसे टेड टॉक का चलन है टिक टॉक में क्या है हमने अपने वह अनुभव बता रहे हो हम जैसे ही लोग हैं जो बहुत छोटे से शुरुआत किए थे और आज बड़ी जगह पहुंचे हैं तो वह आप देखो कि कैसे उन्होंने अपनी जो स्ट्रगल है वह कैसे करी कैसे उन्होंने वह मुकाम हासिल किया तो कुछ बटन घटनाएं आए उनको कुछ परेशानियां आए उतार-चढ़ाव आए और वहां पहुंचे उनके क्या-क्या अनुभव रहे हो ने क्या क्या प्लान किया क्या क्या स्ट्रेटजी उन्होंने अपनाई यह सारी चीजें भी वह डिस्कस करते हैं तो वह भी आप सुने और देखें और समझे तो आपको बहुत गहराई से पता चलेगा कि मेरे सिस्टम में कहां प्रॉब्लम है त्रुटि है और वहां मुझे सुधार ले कर आना है तो यह अगर आपको हेल्प चाहिए इस पूरे चैटिंग में प्लानिंग में ट्यूशन में तो आप मुझे कांटेक्ट कर सकते हैं इसकी ट्रेनिंग देती हूं और अगर आपको लगता है कि मुझे अपने आप से करना है तो बेस्ट तरीका यही है आप यूट्यूब पर ट्यूटोरियल्स देखें यूट्यूब पर इंटरव्यूज देखे देखे किस समय से लोगों ने चीज क्या है अपनी लाइफ में भी हम उनके अनुभवों से जल्दी से हम खुद कर कर खुद गलती करके सीसी में तो बहुत समय लगा लूंगा तो समय बचाने के लिए यह बहुत अच्छा काम है धन्यवाद

#जीवन शैली

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:49
आप किस प्रकार फैलाया जा रहा है झूठ से समाज को बचने की सलाह देंगे मेरा एक सलाह यही रहेगी सबसे पहले की जो भी आप इस्तेमाल कर रहे हो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और जो भी मीडिया चैनल देख रहे हो उसको न्यूट्रल ओके देखो उसमें ज्यादा इमोशनल इन वर्ल्ड मत हो जाओ वह सिर्फ एक कहानी है कहानी कभी आपको कुछ सच्चाई होती है उसमें कुछ चोट भी होता है कि कोई आपको मैडम पर्सेंट यकीन नहीं कर सकते हो जो टीवी पर तो हम वही मानेंगे ना जो टीवी पर दिखाया जाता है हमको लगता है यही सही है लेकिन ऐसा नहीं है टीवी पर हर दूसरे दिन नहीं जा रही है वह सच कहोगी वैसा नहीं है तो सिलेक्शन करना कि कौन सी खबर सही है कौन सी खबर झूठ है कितना एक ही भड़काऊ भाषण देना अलग-अलग तरह के समुदाय के प्रांत के लोगों को भड़काना दंगे कराना और यह सब कर पा रहे हैं क्यों हो रहा है यह क्योंकि कहीं ना कहीं पब्लिक भी इसके लिए जिम्मेदार है वह बहक जाती है सुन लेती है मैडम जाती है चीजों को एक देखना उनको तो लेना उनको समझना तो यह एजुकेशन का परपस क्या है कि हम यह सब करते हैं विवेक शक्ति का इस्तेमाल तो वह विवेक का इस्तेमाल कर कर ही किसी खबर को सही मानें किसी भी बात को सच माने उसके बिना उसको नहीं माने जब तक बच्चे नहीं आए तब तक हम नहीं मानेगी क्या चाहिए यही तो बताया जा रहा है वह सही है क्या और अपना दिमाग भी इस्तेमाल करें क्योंकि हम सब एजुकेटेड हम सबके पास सब टूल्स है हम सब अपनी खुद की रिसर्च कर सकते हैं हम सब हर तबके की जांच कर करना जानते हैं और अधिकार भी कुछ हमको संविधान में दिए हैं तो उस प्रकार से हमें आगे बढ़ना है और चलना है बिल्कुल अंधाधुन किसी भी चीज को नहीं मानना है और किसी भी की बहकावे में चारों कोई पॉलिटिकल पार्टी हूं या कोई समुदाय हो कोई पंथ्यों ब्लाइंड्ली फॉलो नहीं करना

#रिश्ते और संबंध

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
3:05
विकी यह जो एक इनसिक्योरिटी हैपियर है लाख है डिप्रिवेशन है हीरो शब्द है सारे नेगेटिव है और यह हर इंसान चाहे वह पुरुष हो या स्त्री हो कभी ना कभी इन चीजों से ग्रसित होता है और सबसे आसान तरीका क्या है डील करने का इन चीजों से कि हम यह ब्लेम दूसरे पर डाली पहले तो लड़की होने पर निराशा होनी नहीं चाहिए है ना लेकिन फिर भी होती है क्योंकि उसके पीछे बहुत सारी मान्यताएं हैं बहुत सारी कहानियां है बहुत सारे विचार है जो बचपन से उसको फिट किया गया इस वजह से इंसान को लगता है कि यह तो मौज है कि नहीं होना चाहिए या लड़का ही चाहिए और अगर वैसा नहीं होता है तो फिर वह ब्लेम करने के लिए कोई तो चाहिए वह ब्लेम किसको करेगा तो क्लेम दूसरे को करने पर अपने को हल्का लगता है किसी और को गाली दे दी किसी और को भेज दिया किसी और को जिम्मेदार ठहराया तो यह कोई गलत बात नहीं है कोई पाप नहीं है फिर भी हम ब्लेम कर रहे हैं कि जो फीमेल है जो लेडी है मदर है उसका फोल्डर उसको कोई फर्क नहीं है तो प्योर साइंस तो अब यह देखो आपकी यह मानसिकता को दर्शाता है एक को मान्यता के पाटन को दर्शा रहा है शादी करने से पहले ही अगर जांच कर ली जाए कि जो पुरुष है उसकी मानसिकता कैसी है उसके परिवार की मानसिकता कैसी है और कैसा रहेगा आगे उसका व्यवहार यह रुझान तो बहुत हद तक हम इसको कटेल कर सकते हैं लेकिन फिर सवाल आता है कि इतनी अगर खोज खबर कर पाता इतना कर देख आते तो शायद बहुत सी शादियां होती ही नहीं और शायद यही एक वजह है कि आज शादियां डिले हो रही है बहुत से लोगों की शादियां नहीं हो रही है क्योंकि वह कई तथ्यों को समझ पाते हैं देख पाते हैं और कंप्रोमाइज करने से मना कर देते हैं तो लड़कियां स्वतंत्र हैं आज की डेट में वह कंप्रोमाइज नहीं करती है इस वजह से जो है शादियां वह ऐसी जगह नहीं करना चाहती है जो उनको अनु में जाकर प्रॉब्लम क्रिएट हो कि मुद्दे पर आते हैं कि यह क्यों होता है तो जैसा मैंने बताया कि मानसिकता है यहां पर बहुत हद तक जिम्मेदार है यह सोचना कि पुरुष प्रधान समाज हमारा और यह सोचना कि पुरुष ही वंश को आगे लेकर जाएगा तो वही को लड़का पैदा होना चाहिए तो लड़की पैदा होने पर तो उसके जींस जो है वह हमारे फैमिली से बाहर जाएंगे ना किसी और फैमिली में जाएंगे यह सोच रहा था इस वजह से जोड़ दिया जाता है कि लड़का मैंने देखी गलत है सोच मैं इसको प्रमोट नहीं कर रही हूं और यह बार-बार फिर इस चीज को पिंप्वाइंट किया जाता है लेडी को ही तुमने लड़का पैदा नहीं किया जबकि प्योर साइंस तो ब्लेम करने के लिए क्या होता है थोड़ा मन को अच्छा लगता है ना कोई और जिम्मेदार है मैं जिम्मेदार नहीं हूं कि यह चीज है तो यहां उनको साइंटिफिकली आप कितना भी समझा लो उनको बात नहीं करते कि जब तक उनकी मूल मान्यता नहीं टूटेगी की लड़की का पैदा होना गलत है पिछली यह थॉट गलत है यह विचार चेंज करना जरूरी है धन्यवाद

#जीवन शैली

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
2:05
अगर छोटी-छोटी बातों पर चढ़ा होने लगे तो क्या करना चाहिए कि छोटी-छोटी बातों पर चड़ होने का मतलब है कि आप एक्चुअली में कोई और परेशानी है जो आपके दिमाग में है जिसका निवारण आपको नहीं मिला है जिस वजह से आप हर चीज पर जला रहे हैं अगर यह कभी-कभी हो रहा है और अभी कुछ ही दिनों से होने लगा है तो यही वजह है लेकिन अक्सर ऐसा होता है आपके साथ और हमेशा ही आपका स्वभाव नहीं है फिर चैट करना तो फिर समझ जाना चाहिए कि फिर और भी कोई रीजन हो सकती है तो उसके लिए पूरी जांच करना बहुत जरूरी है जैसे एक मेडिकल डॉक्टर पूरे शरीर की जांच करता है आपकी नव देखता है और फिर आपको और जो हर टेस्ट करने के लिए बोलता है उसके बाद ही कोई दवा देता है ऐसे ही जो मनोवैज्ञानिक है वह भी आपसे अलग अलग प्रकार के सवाल पूछता है आपका पूरा क्लीनिकल इंटरव्यू लेता है उसके बाद आप की मनोदशा को समझते जानते हुए वह डायग्नोज करता है कि क्यों चिढ़ चिढ़ हो रही है क्यों परेशानी हो रही है किस तरह की किन-किन बातों पर चढ़ते हैं आप गुस्सा जल्दी आ जाता है अपने अपने मन मुताबिक शिवसेना होने पर जल आहट होती है या हम कुछ अपेक्षाएं किसी के ऊपर हमने ला दी हुई है और वह अपेक्षा अनुसार काम नहीं कर रहा है इस वजह से हो रहा है इन जनरल कोई और ही आपको परेशानी है जिस वजह से हो रहा है जैसे मैंने पहले सबसे पहले का तो बहुत सारी वजह हो सकती है हो सकता है आप कोई और मानसिक पीड़ा से ग्रसित हो जिस वजह से आपका यह एक सितम है चर्च ऐड होना यह भी हो सकता है तो यह गहराई में जांच करने के बाद ही पता चलता है कि इस आखिरी ऐसा क्यों हो रहा लेकिन अगर ऐसा हो रहा है बार-बार हो रहा है और इससे आपके और डे टुडे लाइफ में प्रॉब्लम हो रही है रिलेशनशिप से प्रॉब्लम आ रही है तो आप एक कोई काउंसलिंग सेशन ले सकते हो कोई बहुत बड़ी बात नहीं है ज्यादा महंगा भी नहीं रहता है प्रसिद्ध दवा लेने डॉक्टर के पास जाते हैं इसे मनोचिकित्सक से भी बात कर सकते हैं आप चाहे तो आप मुझे भी कांटेक्ट कर सकते हैं और फिर हम डिस्कस कर सकते हैं कि सूजन क्या प्रॉब्लम है क्यों आपको चैटिंग हो रही है धन्यवाद

#खेल कूद

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
2:20
मिशन की सोच रखने वाले व्यक्ति यही समझते हैं कि यदि मैं मर जाऊंगा मेरा अस्तित्व खत्म हो जाएगा यानी मैं शरीर की हत्या कर देता हूं मैं शरीर नहीं रहेगा मेरा तो समस्याओं का समाधान हो जाएगा इस सोच के चलते हुए कदम उठाते हैं लेकिन यह गलत है यह बिल्कुल भी सही नहीं है कि आपकी जो चेतना है आपका जो एनर्जी है वह खत्म नहीं होता है ना शरीफ ना रहे तो भी वो रहेगा और इस वजह से जो हमारे विचार हैं जो हमारी भावनाएं हैं जो हमारे परेशानियां हैं समस्याएं हैं जिनसे हम जो भेज रहे हैं जिनमें बस अपने आपको महसूस करें हम निकला निकल नहीं पाते हैं निकला हुआ नहीं देख पाते खुद को बाद में और इसको क्योंकि कोई प्रमाण नहीं है इसीलिए इस बात पर यकीन नहीं होता है और फिर भी लोग ही गलती कर दी हत्या करते हैं इसका समाधान क्या है देखिए मैं सिर्फ यहां यह आपको एड्रेस दे सकती हूं कि कोई भी समस्या आप से बड़ी नहीं है इसमें नहीं कहती ताकत दिया कोई नया बनाया है या पुतला जिसको इंसान का नाम दिया है और उसमें इतनी ताकत और इतनी शक्ति है कि वह कोई बड़ी से बड़ी समस्या भी सुलझा सकता है आपसे बड़ी समस्या नहीं हो सकती है तो आप इतने बड़े हैं अपने सपने शक्तिशाली हैं यदि आप का मनोबल टूटेगा और आप बिल्कुल तय कर लेंगे आप जीवन में क्या पाना चाहते हैं क्या हासिल करना चाहते हैं तो डेफिनेटली आपको वह चीज मिलेगी लेकिन फिर एक बात आती है कि हर कोई इंसान अपने बारे में अच्छा सोचते हैं और अच्छा ही पाना चाहते हैं फिर भी क्यों कुछ लोग सफल नहीं हो पाते हैं तो उसमें बहुत सारे कारण रहता तो हम काउंसलिंग के दौरान यही देखते हैं यही बात जानने की कोशिश करते हैं कि यह इंसान से कहां चूक हुई क्या बदलाव अगर अपनी जीवनशैली में ना अपने सिस्टम में लाए तो फिर उसको सफलता मिल सकती है उसको वह मनचाहा परिणाम मिल सकते हैं वह जो अपने जीवन से चाहता है ऐसा करने पर फिर यह सवाल नहीं उठता है कि हमारे को समस्याओं के समाधान नहीं मिला कोई खेलने की चीज का समाधान नहीं है तो संपर्क करें किसी मनोचिकित्सक से बात करें उनसे खुलकर और आप अकेले ही नहीं है जो किसी परेशानी से जूझ रहे हैं बहुत सारे लोग अलग-अलग स्तर पर अलग-अलग तरह की परेशानियों से जूझ रहे धन्यवाद

#जीवन शैली

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:26
अगर किसी में दिमाग कम और किसी में दिमाग ज्यादा क्यों होता है दिखाकर एक मनोवैज्ञानिक दृष्टि से हम देखे तो दिमाग जो है हमारा बहुत सारे पहलुओं पर निर्भर करता है कि कैसा होगा उसका भी काम कैसा हुआ है और क्या जींस लेकर हम पैदा हुए हैं क्योंकि कहीं ना कहीं इंटेलिजेंस हमारी हेरेडिटी पर भी डिपेंड करती है लेकिन बहुत हद तक हमारी जो बुद्धिमता है वह हमारे पर्यावरण पर हमारे आसपास क्या परिवेश है किस तरह से हमारी परवरिश हुई है कि स्थान से हमने चीजों को सीखा है किस तरह से हमारा वातावरण है उस पर भी निर्भर करती है तो विकसित किया जा सकता है बुद्धिमता को तो बुद्धिमता का विकास जो है वह बचपन में हम देखते हैं भतीजी से एकदम से पकड़ में आता है वह नेकेड लाइफ में आने के बाद लगता है कि बस इसके आगे अब और कोई विकास नहीं हो रहा है लेकिन चीजों को सिर्फ घर समझकर चीजों में बदलाव लाकर अपने जीवन में हम जो है कल कर सकते हैं और यह इस बात का प्रमाण है कि वातावरण से भी हम सीखते हैं तो बुद्धिमता कम क्यों होती है ज्यादा क्यों होती है मैंने आपको एक्सप्लेन किया कि किस तरह से जो हमारे एक्स्पोज़र है वातावरण निर्भर करता है और हमारे जीन क्या है हमें पैरंट्स क्या मिला है नहीं है वह भी डिसाइड करेगा कि मेरी बुद्धिमता कितनी है यही वजह है कि हर इंसान की कीमत होती है

#स्वास्थ्य और योग

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
2:14
क्या मुझे तारक की दवा पूरी जिंदगी लेनी पड़ेगी देखे धारण दो तरह का होता है एक तो दवा लेने से कुछ समय तक उसका कोर्स चलता है फिर वह फिर से जांच की जाती है ठीक हो जाता है जब नार्मल हो जाता है एक ऐसा थायराइड होता है जो लाइफटाइम आपको दवा लेनी पड़ती है तो आपका कौन से वाले टाइप का है उनकी चाचा को करानी पड़ेगी टेस्ट आपको कराना पड़ेगा फिर आपको पता चलेगा दूसरा कि हमारा जो आयुर्वेद है तो आयुर्वेद के अंदर जो धनिया है जिसको हम धनिया साबुत जो होता है सूखा धनिया उसके बुलाकर उसका जो काटा है सवेरे पीने से खाली पेट 15 दिन लेने से ऐसा कहा जाता है कि थायराइड की बीमारी ठीक हो जाती है और उसको मैंने कुछ दिन कर कर भी देखा है और उसका फायदा भी होता है ऐसा नहीं है कि नहीं होता है लेकिन हमेशा के लिए खत्म हो गया नहीं वह मुझे नहीं मालूम है उसके लिए कोई ऐसा रिसर्च नहीं हुआ है जो यह सिद्ध कर सके इस बात को बता सकें कि हंड्रेड परसेंट ऐसा हो जाता है लेकिन हां के अंदर होम्योपैथी के अंदर ऐसी दवाएं हैं जो यह क्लेम करती हैं कि आपका यही तो प्रॉब्लम है यह सॉर्ट आउट हो जाएगा सॉल्व हो जाएगा लेकिन दवा तो आपको लेनी ही पड़ती है तब तक जब तक आपको यकीन ना हो जाए कि आपका यह पूरा अच्छे से प्रॉब्लम सॉल्व हो गया है तो एक्सरसाइज जो है इसमें बहुत छोटा बड़ा रूप ले करती है क्योंकि आपका जो मेटाबॉलिज्म है आपका जो हारमोंस करके प्रेशर नहीं है इस में दिक्कत आने की वजह से ही था तो वह अगर हमने ठीक कर लिया तो थायराइड ठीक होने की संभावनाएं बढ़ जाती है या फिर आपकी जो दोस्त है बोली कि वह कम हो जाती है तो वैसी गली-गली क्या है दवा क्या है थायराइड की दवा मथुरा है जो आप ले रहे हो और मंकी ताकि आपका बॉडी का काम सुचारु रुप से चलता है तो अगर आपका मैडम आप बना लेते हो मिस करते हो हेल्दी फूड लेते हो जंक फूड बिल्कुल बंद कर देते हो और अच्छा साथ में खाना खाते हो तो इससे डेफिनेटली आपको मदद मिलती है और कहिए जो सिम्टम्स है वह भी सब साइड हो जाते हैं और आपकी लेवल है थायराइड तो जरूर आप ट्राई करो और किसी अच्छे डॉक्टर को कंसल्ट करके उसकी देखरेख में आप करना जो भी चीज में करना टाइप में जनरल आना

#टेक्नोलॉजी

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
3:52
भारत में इसीलिए प्रसिद्ध हो रहा है क्योंकि अभी जो नया नोटिफिकेशन आया है व्हाट्सएप के अंदर व्हाट्सएप एक ऐसी एप्लीकेशन है मोबाइल की जिसके द्वारा आप वीडियो कॉलिंग कर सकते हैं मैसेज पर चैट कर सकते हैं ठीक है वॉइस कॉलिंग भी कर सकते हैं इंटरनेट का इस्तेमाल करके तो बहुत ही प्रसिद्ध है अभी उसके बिना काम नहीं चलता है बहुत ज्यादा यूज करते हैं लेकिन अभी इन्होंने एक नया निकाला है एक पॉलिसी के 8 फरवरी के बाद से यह हमारा डाटा यूज़ कर पाएंगे अब आपको जानकारी होगी कि की फेसबुक जो है मार्क जुकरबर्ग इनके मालिक हैं तो मार्क जुकरबर्ग ने या फेसबुक ने व्हाट्सएप को और इंस्टाग्राम को परचेस कर लिया था पिछले कुछ सालों में 2 सालों में तो आप देखो व्हाट्सएप में भी लिखा आता है और इस पर भी कि यह फेसबुक द्वारा परचेस किए गए फेसबुक की आईडी है फेसबुक इसकी मदर अब क्या होता है कि जब समय बदलता है तो फिर उसके मैनेजमेंट बदलती है तो उसके नियम कायदे कानून भी बदलते हैं जब यह आप शुरू हुआ था व्हाट्सएप जब आया था तब इसने यह वादा किया था कि यह बिल्कुल भी डाटा नींद को नहीं होने देगा आपकी कोई भी पर्सनल इंफॉर्मेशन या जानकारी को पब्लिक नहीं करेगा या फिर उस जानकारी को एडवर्टाइजमेंट के लिए किसी को प्रपोज के लिए यूज नहीं करेगा यह भी लिखा आता है आपने देखा होगा आपने व्हाट्सएप के अंदर एंड टो एंड इंक्रिप्शन यानी जैसे मैंने मैसेज भेजो मैसेज आपको मिलेगा बीच में उसे कोई और नहीं पढ़ सकता है कोई और उसको शक नहीं कर सकता लेकिन हमने अभी देखा है कि जो डाटा है वह सर्वर पर लोड होता है और सरवर पर बैठ जाता है तो जो क्लाउड है जो वाकिफ है इस जो टर्मिनोलॉजी से जिनको मालूम है यह क्या होता है तो समझे जैसे एक जगह है जहां पर यह सारी चीजें स्टोर रहती है बेडरूम में इंटरनेट पर तो वहां लिया जा सकता है कभी मुझे से आपने देखा होगा दीपिका पादुकोण की चैट्स रिकवर की गई सारा अली खान की चैट की कवर की गई सोने लगे डिबेट होने लग गए क्या हमारा डाटा कितना सिम है वह सब ठंडा हुआ वह सब बात चली पिछले साल लेकिन अभी इन्होंने यह नोटिफिकेशन दिया है कि 8 फरवरी से आपको यह एक्सेप्ट करना पड़ेगा हमारे टर्म्स एंड कंडीशन सके हम आपका डाटा यूज़ कर सकते हैं फेसबुक के ऊपर फेसबुक खोल कर लेगा अपने आप डाटा को ले लेगा आपके कांटेक्ट को ले लेगा आपका नंबर ले लेगा तो अब कोई उसमें बुराई नहीं है आप कहीं कोई दिक्कत नहीं है बिल्कुल नहीं है लेकिन अगर आप प्राइवेट रखना चाहते हो कि आप किसकी सर्च कर रहे हो किससे बात कर रहे हो आप के कोंटेक्ट क्या है या फिर जो भी है तो अब वह आप करना चाहते हो अगर तो आप बिल्कुल नहीं जाओगे कि यह डाटा फुल हो तो मैं भी सिग्नल ऐप डाउनलोड कर चुकी हूं और 15 है अभी इस दिन के अंदर मैं भी व्हाट्सएप बंद यह मेरा डिसीजन है क्योंकि मैं नहीं चाहती कि मेरा नंबर यह मेरे कांटेक्ट में है वह डिस्प्ले हो तो यह अपना अपना व्यक्तिगत मत है ठीक है और दूसरी चीज अब आती है कि पॉपुलर इसीलिए हो रहा है सिग्नल क्योंकि उसकी ऐसी पॉलिसी है प्राइवेसी पॉलिसी की जिसके अंतर्गत आपका डाटा वह नहीं लेगा कभी भी तो जब तक कह देना चलती है चीज तब तक चलाएं चलानी चाहिए तो फिलहाल आज उसकी यह पल है प्राइवेसी पॉलिसी जो कभी शुरुआत में व्हाट्सएप की भी हुआ करती थी तो इसीलिए लोग सिग्नल है आपकी तरफ बढ़ रहे हैं तो एक सब्सीट्यूट समझा जा रहा है व्हाट्सएप का व्हाट्सएप की जगह उसको एक बेहतर प्लेटफार्म समझा जा रहा है और वहां लोग सोच कर रहे हैं और मैं भी सोच कर चुकी हूं यह चीज है इसलिए वह पॉपुलर हो रहा है

#स्वास्थ्य और योग

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
2:39
घुटने के बाद चेहरा धोना जरूरी है ऐसा इसलिए है क्योंकि जब हम सोते हैं तो हमारी जो किन है वह कुछ ऑइल्स को सीक्रेट करती है आप जिनकी इन तीनों ने ली है या तैलीय त्वचा है वह मेरी बात ज्यादा अच्छे से समझ पाएंगे कि कैसे चेहरे पर थोड़ा ऑयल होता है जब सोकर उठते हैं तो और यह स्वाभाविक है तो अब अगर हम नहीं रोते हैं तो उसमें फिर डॉट चिपकती है और डॉट चिपकने से फिर वहां सो का रूप ले सकता है दूसरी वजह होती है कि आंखों से भी कभी-कभी पानी निकलता है आंखों का भी गाना जो है वह निकलता है जब हम सोते हैं अगर हम वो नहीं सोएंगे तो ऐसा लगेगा कि हम सो रहे हैं या फ्रेश फील नहीं आएंगे गंदगी जो है वह चेहरे पर रहे हो जैसे स्केल सांस लेती है स्किन भी अपना एक कह देना आप दूर होकर सो रहे हो ब्रश करके सॉरी लेकिन फिर भी आप सुबह उठते हो तो ब्रश करते हो क्यों तो मुंह में भी बास आती है उसमें केमिकल सीक्रेट होते हैं कुछ खाना बचा रह गया या नहीं बचा रहा तो भी हमसे जरूर करते हैं बस ऐसे ही स्किन को भी साफ करना बहुत जरूरी है तो मत होना चाहिए अब सवाल आता है कि कभी-कभी यह ऑइल्स जो होते हैं वह हमारी बॉडी के लिए रिक्वायर्ड होते जैसे किसी की ड्राई स्किन ड्राई स्किन है और सुबह उठे और थोड़ा अगर सॉफ्ट लग रही है तो फिर धोने की जरूरत नहीं होती है वहां पानी से आपको सिर्फ सिर्फ मौत होना है हमेशा फेस वॉश से या साबुन से नहीं धोना यह भी ध्यान रखें चेहरे को सुबह उठकर धोरीए और फेस वॉश लगाएं तो आपकी मर्जी है लगाना ना लगाना आपका व्यक्तिगत चुनाव है लेकिन अगर स्किन ड्राई ही रहती हैं आप तो फिर वह नेशनल ऑयल से आपकी बॉडी के आप पानी से मौत हुई है अच्छे से उसको पहुंची है यह आप कर सकते हैं फिर तीसरी एक चीज आती है कि सेटअप लोशन आता है और इसी के बरा और बहुत सारे मेडिकेटेड लोशन रहते हैं जो बिना किसी केमिकल के या डिटर्जेंट के होते हैं उससे भी चेहरे को जेंटल तरीके से साफ किया जा सकता है तो बिना उस को नुकसान पहुंचा बहुत ज्यादा भी अगर आप अपना चेहरा जाएंगे तो उन की चमक चली जाएगी और उसके बाप की जो है वह थोड़ी सी और ड्राई हो जाएगी राष्ट्रीय सोच सकते हैं अगर किसी की शान से तो उसके अनुसार तो चेहरा धोना है या नहीं धोना है यह बहुत सिचुएशन पर भी डिपेंड करेगा स्किन पर भी डिपेंड करेगा लेकिन सवेरे उठकर आप आंखों पर पानी के छींटे मारते हैं मुंह धोते हैं वह तो स्वाभाविक है आपको करना ही है धन्यवाद

#रिश्ते और संबंध

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:43
यदि आप किसी को पसंद करते हो उसके प्रति आपकी भावनाएं रखते हो और उसके साथ कोई संबंध रखना चाहते हो तो ऐसी सिचुएशन में आपको उस इंसान के साथ जो है आप बात करनी चाहिए उनको अपनी बातें बतानी चाहिए उनके साथ आप जैसे विचार रखते हैं उनके बारे में क्या सोचते हैं उनके बारे में अच्छा सोचते हैं ऐसा आप उनको बताएं जो भी आपकी फीलिंग से इमोशंस है लेकिन अगर आप ऐसा नहीं करते हो तो आप हमेशा असमंजस में रहोगे कि पता नहीं वह करती है या नहीं करती है वह करेगी या नहीं करेगी और भूकंप संभावना क्या है कि समय भी निकल सकता है हो सकता है कोई और मिल जाए आपकी गाड़ी छूट जाए या फिर वह भी कहीं ना कहीं अंदर ही अंदर अगर करते हैं आपसे प्रेम तो वह भी सुनेंगे की यह पहल करें यह बताएं तो कभी कभी आंखों ही आंखों में इशारा होता रहता है और उसका कोई मतलब निकलता नहीं है निष्कर्ष निकलता नहीं है समय गुजर जाता है और फिर बात आई गई हो जाती है ऐसा ना हो उसके यह आप हिम्मत जुटाई और जान से ज्यादा क्या होगा कि वह मना कर देंगे तो कोई बात नहीं पहले उनसे सच बात करें बातचीत शुरू करें पहचान बड़ा है और फिर पहली या दूसरी बार में तीसरी बार में आप उनसे यह दिल की बात बता दे अपनी जो भी आपकी विचार है भावनाएं उनके लिए और कहने के तरीके बहुत होते हैं सभ्य तरीके से 11 कैसे आप किसी की एप्लीकेशन करेंगे कैसे आप किसी की तारीफ करेंगे तो वैसे शब्दों के अच्छे शब्दों के इस्तेमाल से आप अपनी भावनाएं व्यक्त कीजिए थोड़ा उनकी तरफ रुझान उनको बताइए कि आपका एड्रेस हमें और क्या पसंद करते हैं उनके अंदर धीरे-धीरे में बातचीत बढ़ेगी तो फिर आप आगे बात ले जा सकते हैं धन्यवाद

#रिश्ते और संबंध

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
6:04
कमलेश है कि जिस बंदे से आप बहुत ज्यादा प्रेम करती हैं और मंदिर में शादी भी कर चुकी है उसके साथ आपका संबंध भी है और अब आप उनके साथ रहना चाहती हैं लेकिन जो आपके पति हैं क्योंकि क्योंकि आपकी शादी हो चुकी है तो आपके पति हैं और वह मना कर रहे हैं वह कह रहे हैं कि पहले परमिशन दीजिए अपने पेरेंट्स की तो मेरा यहां पर आपको सवाल है सबसे पहले तो कि जब आपने मंदिर में शादी की तो क्या आपने वहां पंजीकरण कराया रजिस्ट्रेशन कराया अगर आपने वहां रजिस्ट्रेशन कराया है क्योंकि मंदिर में भी जब शादी होती है तो एक कागज मिलता है पंडित जी की तरफ से अगले दिन जिसमें वह रजिस्टर करके देते ही सत्यापित करके देते हैं कि उन्होंने यह विवाह कराया और अब आप पति-पत्नी है तो आप वह अगर कागज है आपके पास तो यह प्रूफ है क्या आपकी शादी हुई तो उससे पर मुकर नहीं सकता दूसरी चीज है कि जब आप लोगों ने शादी की थी क्या आपको तब यह ख्याल आया कि मुझे परमिशन लेनी चाहिए या तब आपके हस्बैंड ने क्यों नहीं कहा आप सवाल पूछिए उनसे कि वह मिशन लेनी चाहिए परमिशन लेने के बाद शादी करनी चाहिए बिना उसकी शादी नहीं करनी चाहिए तो शादी कर लिया आपने पहले बिना परमिशन के इसका मतलब यह है कि कहीं ना कहीं आप लोग यह बात जानते थे कि आपके घरवाले आपको परमिशन नहीं देंगे और अब क्योंकि रिश्ता बहुत आगे बढ़ चुका है और उस समय गुजर चुका है अब आप जानते हैं कि वह हां कर दे तो अब बोल जो है वह आपके कोर्ट में है अब क्योंकि लड़की के साथ ही मान मर्यादा हमारा समाज इस तरह गए की मान मर्यादा लड़की के साथ जुड़ी हुई होती है इज्जत जो है वह परिवार की उसकी जिम्मेदारी एक लड़की के ऊपर ज्यादा रहती है तो अब आप को डिसाइड करना है कि अगर आप इस रिश्ते में रहना चाहती हैं कंटिन्यू करना चाहती हैं और क्योंकि उनके साथ आपके शारीरिक संबंध भी हैं और अपने जीवन को अब आप डिक्लेअर करना चाहती है सबको खुल कर बताना चाहती हैं तो आप अपने को बताना ही पड़ेगा अपने पेरेंट्स को अगर आप बिना बताए भी उनके साथ नहीं रह सकते हो तो अल्टीमेटली आपको बताना ही पड़ेगा उनको पेरेंट्स को कि इस तरह से हमने विवाह किया है और इस तरह से मेरा उनके साथ रिलेशनशिप है और अब मैं उनके साथ रहना चाहती फिर वह ओपन करना चाहते हैं फिर से शादी ओपन भी करना चाहते हैं समाज के प्रति समाज से को दिखाना पड़ता है बताना पड़ता की शादी हुई लड़की की अभी तो समाज की नजरों में और घरवालों के नजरों में आप जो हैं कुंवारी है शादीशुदा नहीं है तो आप अगर यह डिक्लेअर करना चाहती हैं बताना चाहती हैं तो पहले पैरंट्स को बताइए और फिर वह आपको बताएंगे कि वह राजी है या नहीं है अगर वह राजी नहीं होंगे तो वह कहेंगे कि यह सब भूल जाओ उसको छोड़ दो और हम तुम्हारी दूसरी जगह शादी करते हैं और अगर राजी होंगे तो फिर वह अपनी विधि विधान से प्रॉपर तरीके से सबके सामने शादी करेंगे क्योंकि यह एक बड़ा विषय है अब जो गलती हो चुकी है देखिए उसको तो आप बदल नहीं सकती हैं तो अब आज आपको डिसाइड करना है इससे अच्छा जी के साथ आप कंटिन्यू करना चाहते हो पहले अपने आप को पक्का कर लो कि हां मुझे कंटिन्यू करना है रहना है और अपनी फैमिली को बताओ क्योंकि अब स्टेज पर आकर आप भागने की सोचो या छुपाने की सोचो तो फिर पहले भी आप कर सकते थे तीसरी जैसी आती है इसमें आयाम जो है फाइनेंशियल स्टेबिलिटी क्या आपके हस्बैंड अच्छी तरह से फाइनेंशली स्टेबल है या आपकी पढ़ाई पूरी हो चुकी आप फाइनेंशली स्टेबल हो आप खुद को कैरी कर सकते हो आप अपनी जिंदगी चला सकते हो या नहीं वह एक सबसे बड़ा सवाल है क्योंकि बिना पैसों के नहीं होता है कुछ भी तो बहुत सारे मुद्दे हैं और आई थिंक शुरुआत यहां से ही की जाएगी आप घर पर पहले बताएं क्योंकि बिना परमिशन के आप करते हो तो कल को वह लड़के के ऊपर भी आ सकता है कि उसने शायद भगा कर शादी कर लिया भगा कर ले गया या उसके दबाव में है या फिर बुआ तो काफी तरह की प्रॉब्लम हो सकती है और आपने यहां क्लियर नहीं किया है सिचुएशन आप के केस में कि जो मेरा सबसे पहला सवाल था कि पहले उस समय जब शादी आप ने मंदिर में की तब आपने क्या कोशिश की क्या आपने बताया घर पर वह मेरा बहुत बड़ा सवाल है और प्रेम का ऐसा होता है की आदत हो जाती है पेंट हो जाते हैं तो कभी-कभी वास्तविकता को ध्यान में रखते हुए हमको भावनाओं को साइड में रखते हुए एक परिपक्व हो तरीके से सोचना पड़ता है डिसीजन लेना पड़ता है तो जो भी आपकी इमोशंस हैं उनको आप थोड़ा भी साइड में रख कर एक स्टेप लीजिए क्योंकि हमको व्यवहारिकता भी देखनी है समाज में रहना है तो उसकी कुछ नियम है कायदे हैं कानून है और आपकी खुद की सेफ्टी के लिए सिक्योरिटी के लिए फाइनेंसर और इमोशनल स्टेबिलिटी के लिए भी यह जरूरी है कि आपको जो भी कदम उठाएं अब वह सोच समझ के उठाएं और पूरा पक्का करके उसको सब तथ्यों को जांच करके आप चले आगे और इसमें आप डिसकस्ड कीजिए अपने हस्बैंड के साथ भी और अपनी फैमिली के साथ भी अगर कंफर्टेबल नहीं हो तो किसी थर्ड पर्सन को इंवॉल्व करो तो यह बातचीत कर कर काउंसलिंग कर कर आप यह मुस्लिम को जो है हल कर सकते हो और परेशान होने से दुखी होने से कुछ नहीं होने वाला है कभी ना कभी तो वैसे भी उसके पेरेंट्स आपकी शादी करेंगे कभी ना कभी तो वह भी आपको बोलने वाले हैं कि अब समय हो गया है चलो इस लड़के से शादी कर लो या उस लड़के से शादी कर लो तो वह समय भी आएगा या आ चुका है तो आपको अब यह डिसीजन लेना है कि ओपन करना है नहीं करना है खारिज करनी है पुरानी शादी उसको छोड़ना है या आगे कंटिन्यू करना है क्या हमने बोला प्रेम करती हैं जिससे तो लग रहा है कि आप उन्हीं के साथ आगे रहना चाहती हैं आपने यह बात बताई है यहां पर तो अगर आप उनके साथ प्रॉपर तरीके से रहना चाहती हैं तो आपको प्रॉपर तरीके से अपने जो रिश्ता है उसको डिक्लेअर करना पड़ेगा समाज के सामने उसको मोहर देनी पड़ेगी यह बताना पड़ेगा कि आप शादीशुदा हैं या फिर आप शादी करेंगी दोबारा कीजिए उनके साथ शादी ऐसा भी कर सकते हैं धन्यवाद

#खाना खज़ाना

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:15
क्रीमी और झाग वाली कॉफी बनाने के लिए आप दो चम्मच कॉफी पाउडर में दो चम्मच गर्म पानी और दो चम्मच चीनी मिक्स करें और फ्रेंड पर तो अगर आप बीटी यूज करते हैं तो इजी जाएगा अभी तक नहीं है तो चम्मच से भी फ्रेंड सकते हैं जो जितना ज्यादा उसको पेंटिंग है उतना ज्यादा उस में झाग बनेंगे क्रीम इन ऐसा जाएगी जो डार्क ब्राउन कलर से आप देखोगे कि वह लाइट ब्राउन हो जाएगा जितना उसका हल्का होता जाएगा रंग आप देखोगे वह क्रीम उस की फ्रॉक बढ़ती जाएगी और गर्म दूध में डालेंगे तो यह नाग वाली और क्रीम वाली कॉफी बन जाएगी एक ही तरीका है दूसरा तरीका है कि जब आप दूधवाले तो उसमें आपका पानी कम डालें और उसको अच्छे से मिलने दे करने दे और उसकी जो मिलकर की भाग होती है दूध की बनने के बाद धाकड़ स्माल करके भी आप कॉफी बना सकते स्टीव हार्वे बनती है क्रीमी बनती है या मलाई को भी भेज कर कॉपी के अंदर वह आप इस्तेमाल करते हैं अगर तो वह भी आपको एक रिच क्रीम फ्लेवर देता है कि कॉफी बनाने की कई रेसिपीज हैं और कई तरीके और जैसे ही मैंने बताया आप क्या इनग्रेडिएंट्स यूज कर रहे हैं उस पर डिपेंड करता है आप कैसे बना

#स्वास्थ्य और योग

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
2:54
आपका सवाल है क्या किसान आंदोलन अब कमजोर हो चुका है कमजोर हो चुका है ऐसा कह सकते हैं क्योंकि जो इसके अंदर असामाजिक तत्व थे उनकी बहुत ज्यादा इसमें भरमार थी शुरुआत हुआ था किसान आंदोलन और उसमें भी आप देखो जमींदार इन वर्ल्ड थे जिनके पास करोड़ों की संपत्ति है तो उन्होंने बहुत सारे किसान हैं उन को भड़का कर प्रभावित कर कर उनको इसमें शामिल किया उनकी कई मांगे थे अब सरकार ने कुछ मांगे पूरी भी की हैं तो इसलिए वह शांत भी हुए हैं और आप देखेंगे जो खालिस्तानी है इसमें या अकाली दल का है और फिर इलेक्शन आने वाला है तो उसका एक चौथा तो कम्युनिस्ट पार्टी सर्विसमैन वर्ल्ड हो गई उसमें पूरे ऑर्गेनाइजर तरीके से उन्होंने किया है अभी कल परसो ही किसी का मैंने वीडियो देखा मेरे पहचान का व्यक्ति है और मैं जानती हूं उसका दूर दूर तक किसानों से कोई लेना देना नहीं है तो वह भी हंस रहे हैं मजाक कर रहे हैं वहां पर आंदोलन कर रहे हैं मतलब सिर्फ और सिर्फ जो नरेशन के खिलाफ है यह हमारी सरकार के खिलाफ है जिसके तेरा दुश्मन का दुश्मन दोस्त होता है तो उनके खिलाफ जो खड़ा हुआ है अपनी मांग रख कर आया तो उसका साथ दे रहे हैं उसका साथ नहीं दे रहे हैं वह वह उस कॉमेंट के खिलाफ खड़े हैं और वह हमारे एंटी नेशनल एक्टिविटीज इन वर्ल्ड एंटी नेशनल एंटी नेशनल लिस्ट है ऐसा मैं समझती हूं तो जैसे इनकी फंडिंग रोकी गई इनके ऊपर शिकंजा कसा गया धीरे-धीरे के पीछे होते गए अब आप देखो कि वहां पर कौन लोग खड़े हैं तो जो भी अपने आप को सपोर्ट कर पा रहे हैं वहीं खड़े इन मिनिमम सपोर्ट प्राइस का जिन्होंने प्रस्ताव रखा उनको मिल गया वह सब वहां से निकल गए हैं राजनीतिकरण है और कुछ नहीं है और कमजोर पड़ चुका है और डेफिनेटली धीरे-धीरे खत्म हो जाएगा जैसे शाहीन बाग का हुआ था कि की बेबुनियाद है कि बहुत सारी उसमें कोई लॉजिक नहीं है आप भी अगर फॉलो कर रहे हैं इसलिए उसको और डिटेल्स देख रहे हैं तो आप जानते हैं और समझ किस तरह से यह जो कानून है वह फायदेमंद है कितनी रुखसार भी हैं कि हर चीज के दो पहलू होते हैं सिक्के के जो सही है वह सही है जो मांगे और जो गलत है वह गलत ही हैं और नुकसान किसका हुआ है किसान तो पहले भी एक नुकसान की पोजीशन में ही थे पहले भी लास्ट में ही थे तो अभी किस का नुकसान हुआ है मुझे जमींदारों का नुकसान हुआ है या जिन जमाखोरों का नुकसान हुआ है उन्हीं को ज्यादा प्रॉब्लम हो रही है और वह चाहते हैं कि 18 हार बनी बनी रहे देश के अंदर जिसके लिए वही आंदोलन जारी रखना चाहते हैं तो वह सिर्फ एक बहाना है पहले से था और भी है बेसिकली कोई भी बिल पास किया जाएगा या कोई भी ऐसी देश के हित में कुछ भी नया करने की कोशिश की जाएगी पुराने बदलाव को हटाने की कोशिश की जाएगी तभी असामाजिक तत्व हमेशा एक्टिव होंगे ही और अपना यह दिखाएंगे धन्यवाद

#टेक्नोलॉजी

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
2:17
अपनी मनोदशा सुधारने के लिए सबसे पहले तो सोने अच्छा देखें और अच्छा बोले क्योंकि हमारे जो विचार हैं वह निर्मित होते हैं हमारे अंदर जो इनपुट जा रहा है उससे कहीं ना कहीं जो किसी की बात सुनकर किसी चीज को देखकर किसी चीज को अनुभव कर कर एक बार हमारी समृद्धि ऐसी हो तुम्हारे को ऐसे विचार आते हैं भावना उत्पन्न होती है और आगे उसकी चेंज कंटिन्यूटी में चलती रहती है तो मनोदशा का सुधार लाना है मनोदशा में बदलाव लाना है तो जो इनपुट जा रहा है हमारे अंदर मारे माइंस के अंदर उसको चेंज करना बहुत जरूरी है उसमें बदलाव लाना जरूरी है इसीलिए अच्छे साहित्य का पठन करना अच्छा सिनेमा देखना या हो सके जितना उतना एजुकेशन ज्यादा ध्यान दे पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान दें और बहुत सारे ऐसे वीडियोस हैं जो इंफॉर्मेशन देते हैं जैकेट करते हैं किसी भी टॉपिक के बारे में बहुत सारी ऐसी किताबें हैं जो अच्छी शिक्षा इतनी अच्छी बातें बताती हैं हमारे जो पूरा का पूरा मेंटल एटीट्यूड एटीट्यूड है उसको बदल देती है ऐसा पठन करें तो जब हमारा इनपुट बदल जाता है तो डेफिनेटली उसका रिजल्ट भी आता है परिणाम भी उसका पॉजिटिव आता है और हम देखते हैं कि बहुत मस्त सेवर एक बड़ा शिफ्ट आया है हमारे अंदर तो यह चेंज की शुरुआत नहीं होती है दूसरी जैसे आती है की मनोदशा बदलने के लिए जो आपका संगत है उसको भी आप वैसा रखें देती आप मनोदशा बनाना चाहते हैं तो आप सकारात्मक विचार रखना चाहते हैं ग्रोथ माइंडसेट डेवलप करना चाहते हैं ऐसे लोगों के साथ ही उठ कर बैठी है कि उनका भी प्रभाव बहुत हमारे ऊपर पड़ता है और आपका जो फिर अब आता है एक्शन जवाब कोई भी कार्य कर रहे हैं तो धीरे-धीरे हम से नहीं होगा धीरे-धीरे उसमें बदलाव लेकर आदमी शैली में बदलाव लेकर आए तो कार्यशैली जैसे-जैसे चेंज होगी तो आप देखोगे कि आपका एटीट्यूड बदलेगा तो यह दोनों चीजें एक दूसरे पर निर्भर है पहले मैं मैं आपको मैं चली सॉन्ग पर हूं फिर वह करूं या पहले एक्शन में थोड़ी से चेंजिंग लेकर आऊंगा उससे धीरे धीरे मेरी मानसिकता बदले दोनों चीजें होती हैं तो जो है वह हमको प्रोसेस करना है हमारे को यह सारे काम करने हैं किसी से हमारी मदद मिल सकती है धन्यवाद

#भारत की राजनीती

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
6:13
आपका सवाल बिल्कुल वाजिब है और एक मनोवैज्ञानिक के तौर पर मैं आपको इसका जवाब देना चाहूंगी कि यह क्यों होता है यह इसीलिए होता है दुष्कर्म क्योंकि जो मानसिकता है पुरुष की वह यहां पर स्त्री को नीचा दिखाना उसकी बेइज्जती करना और उसको डोमिनेट करना रहता है तो यह पावरप्ले है दूसरा कि जो उसका कहेंगे कि उत्तेजना उसके अंदर जागृत हुई है वह उस को शांत करना चाहता है और उसे अगर सामने से रिस्पांस नहीं मिल रहा है तो वह उसके लिए जबरदस्ती यूज करता है यह भी एक रीजन है क्योंकि बहुत बार ऐसा होता है कि कोई करीबी होता है जो यह शोषण करता है और कई बार करता है बार-बार करता है कि जब जो स्त्री है उसकी मर्जी के बगैर उसके साथ संबंध स्थापित करते हैं अब इसमें आप देखो कि दोनों में केस इसमें जो मानसिकता है वह आपको कहीं ना कहीं गड़बड़ लगेगा कि यह मेंटल स्टेबल नहीं है और ऐसा होता है कि किसी की भी जो सेक्सुअल स्टेशन है किसी की सेंट्रल टेंडेंसी है वह सीधा सीधा वह चीज के बारे में ना डिसकस करता है ना बताता है और ना पता चलता है तो इसीलिए जब आप किसी को देखते हो कभी आपके देखोगे कि हम को बिल्कुल भी नहीं होता है क्या चाहिए ऐसा काम भी कर सकता है क्या लेकिन फिर भी होता है और यह आपको तभी समझ पाते हो जब खुलासा होता है कि यह पकड़ा गया या इसके बारे में पता चला या किसी ने बयान दिया और अगर किसी ने हिम्मत नहीं किया नहीं बता पाया तो कभी भी पता नहीं चलता है कि क्या-क्या चरित्रहीन व्यक्ति है वह और शादी के बाद भी लोग अपनी वाइफ के साथ भी ऐसा करते हैं तो यहां पावर प्ले बहुत वर्क करता है कि जैसे कि वह एक एडवांटेजियस पोजिशन में है और वह दबा सकता है कंट्रोल कर सकता है स्त्री को तो स्त्री के प्रति जो नजरिया है जिस तरह से स्त्री का बाजारीकरण हो रहा है और जिस तरह से स्त्री को एक वस्तु के रूप में प्रोजेक्ट किया जा रहा है सिनेमा के अंदर मीडिया के अंदर तो उससे कि और ज्यादा प्रवृत्ति गहरी होती जा रही है बढ़ता जा रहा है यह सब और यह हिंसा कहीं ना कहीं खत्म करने का एक ही तरीका है कि जो हमारा भी दिया है उसमें यह चित्र ना हो बार-बार क्योंकि बार-बार यह चीजें दिखाकर आप एक तरह से प्रोग्राम कर रहे हो माइंड कि सामने वाला यही करें चाहे आप समाज की सच्चाई बताने के नाम पर आप यह सब दिखाओ लेकिन बहुत ही चीजें अननेसेसरी होती है जिसको दिखाने की जरूरत नहीं है आप उसको सटल तरीके से बता भी सकते हो लेकिन इतना एलेबोरेट करके पूरा सीन शूट करके बताना तो आप उसमें क्या करना चाह रहे हो आप एक तरह से होते जीत ही कर रहे हो सामने वाले को यह कार्य करने के लिए तो यह कहीं ना कहीं एक रोक लगनी चाहिए दूसरी चीज ही आती है कि जो परवरिश है लड़कों की वही गलत है आज से नहीं पहले से ही गलत है तो यह बताना और दिखाना की एक छोटी सी में आपको बात बताती हूं कि एक घर में एक बार एक व्यक्ति हम लोग और बोल बच्चा है उसका निक्कर जो है वह खुला हुआ था तो मैंने सिर्फ इतना कह दिया कि अरे इसका तो मैंने घर खुला हुआ शेम शेम तो उसको इतना बारिश फील हुआ तो उसकी मम्मी कहती है कि कोई बात नहीं तू लड़का है लड़कों का सब चलता है तो यह रोमांटिक ही है अब आपको ले गई छोटी सी बात है लेकिन ऐसे न जाने कितने खींचते हैं कितने एग्जांपल है कि वह तीन चार साल की उम्र से ही क्या भर रहे हैं आप अपने लड़के के दिमाग में तो फिर बिल्कुल रिस्पेक्ट नहीं रहता है और एक इतना जेंडर डिवाइड क्रिएट हो जाता है कि ह्यूमन बीइंग के जैसे देखते ही नहीं है लेडी को वह एक ऐसे उपभोग की वस्तु के जैसे ही देखते हैं और सिर्फ और सिर्फ अपनी मां के लिए उनका रिकॉर्ड रहते और किसी के लिए नहीं रहता है तो यह गलत है तो यह परवरिश के ऊपर डिपेंड करता है और पढ़ी-लिखी महिलाएं भी यही सब काम कर रही हैं इसीलिए यह जागरूकता लानी बहुत जरूरी है कि किस तरह से हम उनकी परवरिश करें कि उनके अंदर हम ऐसे विचार डाल सके कि जहां वह एक स्त्री को जो है पूरा मान सम्मान दें उसके साथ इस तरह से व्यवहार करें कि जैसे वह कंपनी ही किसी कोई सिस्टर के साथ करेंगे या अपने ही किसी और रिलेटिव या मदर के साथ करेंगे और यह सभी होते हैं ऐसा नहीं बोल रही हूं पर जहां अवेयरनेस की कमी है जहां लोग पढ़ लिख तो गए हैं लेकिन फिल्में एजुकेट नहीं हुए हैं वहां अभी भी यह चीजें कंटिन्यूटी में हो रही है फिर स्कूल के लेवल पर भी देखी टीचर्स कैसे यह ज्ञान दे सकती हैं कैसे यह वर्णित क्रिएट कर सकती हैं और लड़कियों को भी अवैध करें कि किस तरह काबुली किस तरह का बिहेवियर उनको लड़कों को की तरफ से अवॉइड करना है तो यह क्या आप इस तरह से देख सकते हैं कि आप अगर थोड़ा सा चेंज लाने की कोशिश करते हैं अपने लेवल पर तो आप एक लड़के को भी अगर रिस्पांसिबल बनाते हैं तो आप की कितनी संभावना है खुल जाती है क्योंकि वह कितनी अच्छा है फैमिली रेस करेगा वह अपने बच्चों को भी फिर वही संस्कार देगा तो एक जगह से तो कहीं से शुरुआत हो बहुत जरूरी है और जो पुरानी जनरेशन गई है क्या जो हम रेपिस्ट देख रहे हैं बलात्कारी देख रहे हैं वही सीधा गिरवानी मानसिकता का शिकार है और बहुत हद तक मैंने यह भी एक रिसर्च में पड़ा है कि जो लोग ही करते हैं वह कहीं ना कहीं किसी ना किसी सेक्सुअल डिसऑर्डर के भी शिकार होते हैं यह भी एक बात है तो इसीलिए अवेयरनेस ना होने की वजह से और बहुत ज्यादा इसको एक टैटू बनाने की वजह से सेक्स को यह भी एक कारण है कि लोग जोर-जबर्दस्ती सेवर हासिल करने की कोशिश करते हैं तो लड़कियों को आप दिखाओगे करो वह तो है लेकिन पहले सबसे बड़ी बात की है होना ही नहीं चाहिए ना यह गलत ही मानसिकता है यह उसका गलत ही ऑप्शन है यह सोच ही गलत है तो फांसी दे देनी चाहिए बिल्कुल देनी चाहिए ताकि एग्जांपल सेट हो कि यह इस तरह का हमको नहीं करना है काम अगर हमने किया तो उसके बड़े रिप्र्कशंस होंगे और फास्ट ट्रैक कोर्ट होनी चाहिए तो किसी किसी केस में जो हाईलाइट होता भाई होता है लेकिन बहुत सारे अनरिपोर्टेड कैसे जाते हैं और जो रिपोर्ट होते भी हैं तो उनमें कोई कार्यवाही नहीं होती है कई साल होता तो इसीलिए यह सब को इसके ऊपर स्टैंड लेना पड़ेगा सबको बैलेंस चलानी पड़ेगी धन्यवाद

#साहित्य

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
3:42
रांझा ब्रायन की द सीक्रेट बुक से मैंने यह सीखा किंग इस तरह से हमारे जीवन में लॉ ऑफ अट्रैक्शन काम करता है और जो चीज हम अपने जीवन में जाते हैं वह चीज हमारे भौतिक उसमें आए उसके लिए सबसे पहले वह मानसिक सरपरानी बहुत जरूरी है तो हमारे जो विचार हैं वह बहुत महत्वपूर्ण है और हमारा जो अंतर्मन है वह बहुत ही उपजाऊ भूमि है जो भी वैसी फसल हम काटेंगे तो जैसे हम विचार रखेंगे खुद के लिए और दूसरों के लिए वैसा ही रिजल्ट हम को मिलने वाला है अब अगर हमने यह देखिए कि इसके अलावा फोकस ओं है हमारा वह उसी बीच में रहना जो जिसको हम पाना चाहते हैं कि सबकॉन्शियस माइंड को हां या ना नहीं समझता है उसको भावनाएं समझती हैं लोग सोचते हैं और बहुत ही थोड़े से आपको पुराने के टिप्स फील कर रहे हो आप इमोशंस में आप बुरा महसूस करते हो लेकिन चाहते हो क्या आपकी जिंदगी में अच्छा हूं तू कितनी अच्छी शब्दों का इस्तेमाल क्यों ना करें लेकिन जो भावनाएं आपकी वही रंग ले अगर आपको अभाव का भाव है तो उस भाव से पहले बाहर आना होगा और हमारी जो गाड़ी है उसके अंदर हमें सकारात्मक शब्दों का प्रयोग करना होगा और हमने जीवन में जो भी आकर्षित करना चाहते हैं जो पाना चाहते हैं उस पर फोकस रखना मुझे समझ में आता है कि और जैसे भी हम आसपास सपने देखते हैं परिस्थितियों और हम उनको कमेंट करते हैं उनको जज करते हैं लोगों को जज करते हैं उसकी जगह में यह देखना चाहिए कि मेरे अंदर ऐसी क्या त्रुटि है कि जैसा मैं समझता हूं जैसा में सोचना मम्मी और दूसरों के बारे में उस तरह से ही मेरी भावनाओं के हिसाब से और मेरे ख्यालों के हिसाब से मुझे लोग टकराते हैं जीवन में तो दुनिया में ऐसी नहीं है जैसा दिख रही है दुनिया बैठी है जैसा मैं खुद से मेरे खुद के विचार है इसके अंदर पूरी किताब के अंदर वह इस बात पर है कि आपके विचार किस तरह के होना चाहिए किस तरह से आप विचार रखे किस तरह से उन पर केंद्रित रहे अपने लक्ष्य पर केंद्रित रहे और फिर जैसा आप जीवन चाहते हैं बहुत ही आसान है और आप बिल्कुल संभव है एक मैजिक है और एक यह देखने वाली बात है कि कैसे यह घटता है कैसे होता है और इसके पीछे कुदरत की कुछ नहीं हम काम करते हैं जैसे मैंने कहा कि भावनाएं बहुत इंपॉर्टेंट है फोकस बहुत इंपॉर्टेंट है उसके अलावा जो हमारे सकारात्मक शब्द है उनका प्रयोग होना करा दो शब्दों का प्रयोग ना हो जैसे कि आप यह ना कहना कि मुझे यह नहीं चाहिए आप यह कहे कि मुझे एक्स वाई जेड चीज चाहिए तो क्या चाहिए उस पर हमें उससे चीज फिर आती है कि वह हमेशा तो ऐसा नहीं होता है यह बुक के बारे में बहुत सारे लोगों के सवाल है जो मुझसे पूछते हैं और मैं उनको यही कहते हो कि सब्जी से इसलिए नहीं मिलती क्योंकि आपका भाभी चरण मानव आणि में एकता नहीं है और दूसरी चीज की जिन चीजों के अंदर दूसरे की मर्जी है दूसरे की भी डिजायर शामिल हो वहां हम यह नहीं कह सकते कि मैंने यह मांगा है तो मुझे मिलना ही चाहिए जिससे अगर कोई चाहता है कि इस व्यक्ति से मेरा विवाह हुआ अब वह व्यक्ति से और लोग भी हो सब जाते हुए वहां और वह व्यक्ति भी चाहता है कि किसी ऐसे उसका विवाह हुआ जो उसने पहले से हो सकता चुनर खाओ कोई व्यक्ति तो अब यहां पर उसकी मर्जी चलेगी उसका जीवन है उसकी सोच है उसके जीवन में वह क्या कर सकता है अगर आप दोनों की बात करती है श्री को जी तो ही आप एक दूसरे के जीवन में आएंगे नहीं तो जिसकी स्ट्रांग अपील करती हूं कि जिसको जो चाहिए वह मिलेगा तो यह भी है और यह समझ नहीं पाते हैं अगर आप कल ऑफ अट्रैक्शन वर्क नहीं कर रहा है या इस किताब के अनुसार आपको रिजल्ट नहीं मिल रहा है तो कहीं तो आप कुछ गलत कर रहे हैं आपने किसी से इसको प्रॉपर ही नहीं समझा तो मैं इसके ऊपर भी और लेती हूं क्लासेस और उस पर भी काउंसलिंग करती हूं अगर आपको जानकारी चाहिए तो आप मुझे संपर्क कर सकते हैं

#पढ़ाई लिखाई

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
2:06

#धर्म और ज्योतिषी

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
2:07

#टेक्नोलॉजी

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:54

#रिश्ते और संबंध

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
0:51

#टेक्नोलॉजी

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:22

#रिश्ते और संबंध

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:55

#जीवन शैली

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
2:17

#जीवन शैली

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
3:33

#जीवन शैली

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:42

#रिश्ते और संबंध

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
1:15

#रिश्ते और संबंध

Porshia Chawla Ban Bolkar App
Top Speaker,Level 44
सुनिए Porshia Chawla Ban जी का जवाब
मनोवैज्ञानिक, हैप्पीनेस कोच, ट्रेनर (सॉफ्ट स्किल्स/कॉर्पोरेट)
3:03
URL copied to clipboard