#भारत की राजनीती

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:54
सुप्रीम कोर्ट स्टे दे रहा है और इससे सरकार जो है किसी भी समय खारिज करवा सकती है इसलिए स्टे की कोई वैल्यू नहीं होती है जो सरकार का जो कानून और सुप्रीम कोर्ट ने स्टे दिया है सुप्रीम कोर्ट को चाहिए कि किसानों के पक्ष में निर्णय ले करके उसकी कानून जो है जनता की भलाई के लिए होते हैं जनहित के लिए होते हैं और जनहित में देकर किसानों को स्वीकार नहीं कर रहे हैं तोहार सुप्रीम कोर्ट को यह है कि उस कानून को अपने अधिकारों के तहत निरस्त करके फिर से उस पर बहस के जरिए जो है उसमें किसानों को भी शामिल कर जा फिर से प्रस्तुत किया जाए और तब तक जब तक किसान उस पर अपनी सहमति ना दे तब तक के लिए उसको निरस्त किया निरस्त किया जा सकता है तो बजा स्टे देने के उसको जब तक निरस्त नहीं किया जाएगा किसान उसे स्वीकार नहीं करेंगे तो चाह रहे हैं कि इस कानून को बिल्कुल समाप्त कर दिया जाए इस कानून नाम की कोई चीज ही ना रहे

#भारत की राजनीती

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:31
लिखित दवाई की दुकान वाले जो है आप देखते होंगे जातियों के तो 10:00 पर्सेंट आजकल हरा आम आदमी जो है दवा में छूट दे देता है उसका रीजन यही है कि दवा मार्केट जो है वह धंधा धंधा है उसमें 50 से 55 परसेंट से लेकर के साठ पर्सेंट तक का मुनाफा होता है हर दोनों का अलग-अलग होता है उसकी टीम से दवा की इसीलिए ज्यादा बड़ा करके रखी जाती ग्रुप में डॉक्टर को भी कमीशन दिया जाता है होलसेलर को भी कमीशन की दिया जाता है रिटेलर को भी कमीशन दिया जाता है तो डॉक्टर इन सब चीजों को ध्यान में रखते हुए ₹100 की चीज जो ₹500 जब उसकी वैल्यू रखी जाती है क्योंकि वह एक आवश्यक आवश्यकता होती है जियो जीवन दायिनी दवा मानी जाती है लोगों गरिमा को ठगने के लिए लोगों को परेशान करने वाली इस पर सरकार भी इस पर कोई कदम नहीं उठा रही है क्योंकि सरकार को बड़े-बड़े लोग चंदा देते हैं और सरकार इस पर मजबूर हो जाती है उसमें कोई निर्णय लें वह गरीबों के निर्णय हित में अगर सरकार ले लेगी ज्यादा से ज्यादा ₹10 प्रोडक्शन कॉस्ट आती है उस पर सरकारी ₹1 टैक्स मिलाकर के 11 रुपए की पड़ती है और ज्यादा ज्यादा उसमें बीस से पच्चीस परसेंट उस पर टैक्स लगा करके उसकी कीमत ज्यादा से ज्यादा ₹15 रखी जा सकती है दूध आकर किया जा सकता है 10वीं बेस पसंद है लेकिन उसको तो 100 से 200 गुना उस पर फायदा उठा करके तब वह 10 परसेंट आपको दे कर के वह बड़े खुश हो जाते हैं लेकिन दवा में साठ से सत्तर परसेंट तक का फायदा होता है वह सेलर को

#खाना खज़ाना

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:15
बीके लोहे में कौन सा काम आप करना चाहते हैं स्टील लोहे का काम और करना है तो हरियाणा में एक जगह जगाधरी जगाधरी चले जाइए जगाधरी में बहुत सी स्टील के बर्तन बड़े सस्ते मिलते हैं और हां इसको सही कार्य किया जाता है कि जब जगाधरी आप जाएंगे तो वहां उनसे हर प्रकार से देख लीजिए कि मतलब मार्केट सिगरेट ले लीजिए और दोनों एक जगह से माह में होलसेल काम करना है तो किसी होलसेल की दुकान पर जाकर क्या आप पहले पता कर ले कि कौन कौन सा सामान कैसा है वहां से ले लीजिए इसके बाद जगाधरी फैक्ट्रियों में चले जाइए वहां सीधे-सीधे वह वह मतलब डायरेक्ट होलसेलर को माल भेज देते हैं तो वहां का भी रेट ले लिया दोनों को कंपैरिजन कर दीजिए जहां से चार पैसे आपको ज्यादा बच रहे हो वहां से आप व्यवसाय कीजिए और मेरा विचार तो यही जवाब जगाधरी जाएंगे और वहां से अगर स्टील का काम करते हैं तो छोटे से लेकर के बड़े-बड़े मशीनें तक आपको स्टील के वहां मिल जाते मिल जाएंगे खाली बर्तन तो मिलेंगे ही लेकिन और भी तमाम प्रकार का एक आपको ऑप्शन मिल जाएगा पसंद करने की ग्रामीण क्षेत्र में किन-किन चीजों की मांगे कितने सस्ते चीजों के मांगे इन सब चीजों की मांग को अपना देख लीजिए और वहां जगाधरी जाकर के 50 फैक्ट्रियां वहां लगी हैं वहां आप सीधे उनसे संपर्क करके माला सकते हैं और काफी फायदा कमा सकते हैं

#जीवन शैली

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:15
आपका बैठाने आखिर ऐसा क्यों होता है कि जब हमें किसी चीज की अत्यंत आवश्यकता होती है तो वह चीज हमें नहीं मिलती और बाद में मिल जाती हो उसका रीजन यह है कि आपके स्मरण शक्ति बहुत कमजोर हो गई है और आप जो है बहुत ही गैर जिम्मेदाराना तरीके से काम करते हैं हर व्यक्ति को ही मालूम है कि जो समाज जहां से उठाया जाए वही रखा जाए अगर आप अलमारी से जो सामान पर काफी होगा जहां रखते हैं अगर वही रखेंगे तो आपको इस माह में इस भर्ती में बनी रहे तो वहां रख देंगे और आपने उठाया ड्राइंग रूम के खिलाफ जाकर के किचन में आप नाखून काटने का जो यंत्र होता है नेल कटर अपने हाथ उठाया और जाकर किचन में रख दिया फिर आपके दिमाग से उतर गया भूल गए आप तो आपने जो कि उसको उचित जगह पर नहीं रखा है जब ढूंढ रहे हैं अब आप तो नहीं मिल रहा है सब आपके अंदर एक इरिटेशन पैदा हो रहा है उसमें गलती किसकी है गलती आपकी है आप की गैर जिम्मेदाराना हरकत है कि आपने नेल कटर को जहां रखा जाना चाहिए वहां नहीं रखा जैकी चन मरा प्यार जब कभी दूसरा किचन में कोई काम करने के लिए जाएंगे तो हो सकता है कि आप को दिखाई दे जाता मिलती है इसलिए वह आपकी ही लापरवाही का परिणाम है कि जो चीज आप जरूरत पर ढूंढते हैं इसलिए आप अपनी आदतों को सुधार लीजिए

#पढ़ाई लिखाई

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:44
कल तो ड्यूटी धातुओं के मिश्रण से बन जाता है जिसमें तांबा और जस्ता यह तांबे को करीब 60 भाग रखते हैं और जस्ते को 40 / रखते किसको बुलाते हैं अलग जब मैं हो जाता तो उसका रंजो है पीतल की तरह हो जाता है तो पीतल मिश्रित धातु इसीलिए कहा जाता है उसको कि ग्रुप में दो चीजें मिलती हैं तो 19 होते हैं फिर उस को पीट पाठ करके उसको मतलब पत्ता बना करके फिर उसमें चीजें बनाई जाती है और आज अगर बराबर मात्रा में कर देते हैं तो उसमें थोड़ा सा पीतल में भी कुछ लाला में ज्यादा रहती है उसके आवश्यक अनुपात अनुपात को पता करके फिर उसको बनाइए और पीतल केवल हाउस में दो ही चीजों का मिश्रण से बनता है

#जीवन शैली

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:17
सर्दी हर व्यक्ति को अलग-अलग क्यों महसूस होती है यह कहा जाता है कि जो व्यक्ति गोरा होता है उसका द सर्दी आप जरूर करने की क्षमता कम होती है जो सांवले रंग का होता है वह सर्दी अब जरूरत नहीं सर्दी और गर्मी आप जरूर करने की क्षमता उसी हिसाब से ज्यादा होती है उसको गर्मी ज्यादा लगती है सर्दी कम लगती है और जो घोड़े पर किसका होता है उसको सर्दी ज्यादा सर्दी भी ज्यादा लगती है और गर्मी कम लगती है और यह मतलब जैसा कि एक अध्ययन में पता चला इसलिए मैं आपको उसमें बता रहा हूं तो सर्दी हर व्यक्ति को अलग-अलग लगती है और दूसरा शरीर में जितनी शक्ति होगी यदि अगर आपके अंदर शरीर शक्तिशाली है और ताकतवर चीजें ड्राई फ्रूट वगैरह खाते रहते हैं बादाम है किशमिश मुनक्का है इससे गर्म गर्म चीजें जो खाते रहते हैं और यह कॉड लिवर आयल वगैरह पीते हैं उनको सर्दी कम लगती है क्योंकि शरीर उनका जो है इन वस्तुओं से बराबर तापमान को बराबर बनाए रखता है और बाहर की सर्दी का असर उनके ऊपर नहीं पड़ता है यह भी कारण हो जाता है लेकिन जो मैंने यह बताया कि साथ कि हर व्यक्ति को अलग अलग क्यों लगती है जो लोग इनका इस्तेमाल नहीं करते और ठंडी चीजों का प्रयोग करते हैं और बाहर की भी ठंडी तो उनको ठंडी ज्यादा लगती है इसलिए हर आदमी को व्हाट्सएप के हिसाब से अपने भोजन में परिवर्तन करते रहना चाहिए

#स्वास्थ्य और योग

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:39
हमारे शरीर के अंदर 70 पर्सेंट पानी होता है और वह पानी हमारे रोटेशन में भी काम करता है तो जब सर्दी लग जाती है तो हमें इंफेक्शन हो जाता है और वह इन्फेक्शन हमारे शरीर की जो बदलाव मदद रवि क्षमता है पानी जो है पानी के माध्यम से वह इंफेक्शन को बाहर निकालने का प्रयास सभी हमारा करता है क्योंकि वह उसके फीचर में आता है कि गाने लगेगी 6 के अंदर अगर कब की मात्रा कर स्वास्थ्य बिगड़ने लगती है तो चेक के माध्यम से बाहर कर दें ताकि वह शरीर की प्रगति है तो इन सब चीजों को इसीलिए दूर करने का प्रयास किया जाता है कि जो शरीर के अंदर जो अवैक्सिस भर जाते हैं उनको बहती हुई नाक के माध्यम से निकाला जाता है इसीलिए कहते हैं कि 3 अगस्त के समय जो काम हो तो जुकाम का तुरंत इलाज नहीं करना चाहिए ना को भाई जाने देना चाहिए क्योंकि उसमें राक्षस और गंदगी इतनी ज्यादा भर जाए क्यों इंफेक्शन पैदा करने लगती है बहुत से लोगों को एलर्जी हो जाती है कहीं ज्यादा धूल लक्कड़ हो यह मैसेज वगैरह हो तो उसको छींक आने लगती है तू एलर्जी के कारण भी उनकी नाक बहने लगती है और शरीर के जो प्राकृतिक प्रक्रिया है वह स्वीकार नहीं करती है इसलिए समय परिवर्तन मौसम परिवर्तन और मतलब वायु में गंदगी आ जाने के कारण भी इस तरह की स्थिति आ जाती क्योंकि सर्दियों में नहीं होता है नाक में इन्फेक्शन के कारण भी नाक बहने लगती है और सर्दी जुकाम तुरंत हो जाता ठंडी गर्मी की जगह मिला करके खा लेते तो उसमें भी इन्फेक्शन होने लगता है

#स्वास्थ्य और योग

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:08

#टेक्नोलॉजी

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:51

#खाना खज़ाना

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:01
तुझे स्वर और व्यंजन हिंदी में भी प्रयोग किए जाते हैं और अंग्रेजी में प्रयोग किए जाते हैं जैसे हिंदी में है छोटा बड़ा छोटा उ बड़ा ऊ यह जो है स्वर और व्यंजन जैसे का खा गा घा जैसे कमल है कमल को अगर कमला करना है तोला में जब आप बड़े आकाश पर लगा देंगे तो कमला हो जाएगा यह स्वर है दुनिया निकालने के लिए तो आप जब हारमोनियम बजाते हैं तो उसमें व्यंजन का प्रयोग किया जाता है स्वर संगीत में विसर्ग का प्रयोग किया जाता है लेकिन हिंदी में जो स्वर हैं वह शब्दों को के स्वरूप को बदलने के लिए स्वर्ग का प्रयोग करते हैं जैसे जहाज हवाई जहाज में बड़े आ की मात्रा नहीं लगाया तो जहाज हो जाएगा समझ में नहीं आएगा जैसे मालती मालती नगर बड़ी ई की मात्रा में नहीं लगाएंगे तो अब मालती भूल नहीं पाएंगे तो जो बड़ी ई की मात्रा जो लगती है यह स्वर है और बाकी जो पूरा जो है मामला होता यह व्यंजन कहलाता है

#धर्म और ज्योतिषी

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:43
आपका प्रश्न है यदि कोई व्यक्ति हिंदी में बात करता है भारतीय संस्कृत के अनुसार कपड़े पहनता है तो लोग उसे गवार क्यों समझते हैं तो बाबू हम तुम्हें इसका उत्तर यही दे सकते हैं कि जो हिंदी में पढ़ा लिखा है अपनी संस्कृति और कला पर बिल्कुल परिपक्व है और उसको जो लोग गंवार समझते हैं वह गंवार होते हैं क्योंकि उनको हिंदी ठीक से आती नहीं है ना तो हिंदी के महत्व को जानते हैं न हिंदी ग्रामर को जानते हैं ना हिंदी के वैश्विक शुरू को जानते हैं आजकल पूरे देश में सर सर 7:30 पर्सेंट लोग हिंदी बोल रहे हैं और अंग्रेजी गुलामों की भाषा है अंग्रेजी लोग ठीक से नहीं देते लेकिन अपना रौब दिखाने के लिए जो लोग अंग्रेजी नहीं जानते उनको अंग्रेजी में लिख कर देना शुरू करते हैं जबकि सच्चाई यही है कि उन्हें अंग्रेजी खुद नहीं आती है अगर उनसे जो लोग अंग्रेजी में बोलना शुरू कर देते हैं तो इधर-उधर बगले झांकना शुरू कर देते हैं इसलिए जो लोग आपको गवार समझते हो हिंदी बोलने पर आप उसे कहिए क्या आपको हिंदी नहीं आती अगर हिंदी नहीं आती है तो अभी में रहने लायक नहीं है आप खुद इसकी इतनी बेज्जती कर दीजिए दोबारा आपसे अंग्रेजी में बात करनी है उसको झिझक लगने लगे समझ रहे हैं आप गवार नहीं अगर हिंदुस्तानी है तो आप हिंदी बोलिए धड़ाके के साथ हिंदी बोलिए और उसको बोल कर दीजिए कि आपको लगता हिंदी नहीं आती है आप गैर पढ़े लिखो के बीच में आप अंग्रेजी बोल रहे हैं आपको शर्म आनी चाहिए अपनी मातृभाषा को ले जा रहे हैं हिंद भारत में रहकर के भारत का नमक खाते हैं और अंग्रेजी बोल रहे हैं आप इस तरह की बातों से आप उसको डालनेट कीजिए धीरे-धीरे स्थिति या खत्म हो जाएंगे वह गवार है क्या तुमको हिंदी नहीं आती आप विद्वान है क्योंकि आपको हिंदी आती है हिंदी में हमारे सारे सारे भेदभाव से लिखे हुए अंग्रेजी में क्या लिखा है अंग्रेजी में तो एक अंग्रेजों ने इस भाषा को एक दास्तां की भाषा बना दिया है जो सरकार जो उसे हटा नहीं पा रहे यह सब सबसे बड़ा हमारे देश का दुर्भाग्य है

#टेक्नोलॉजी

bolkar speakerWell aur shall का प्रयोग कब करते हैं?
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:43
आपने अंग्रेजी ग्रामर में बेल और शायद यह प्रयोग आपने पढ़ा भी होगा लेकिन आप हमारे परीक्षा ले रहे हैं हम आपको बता दे रहे हैं देखो आई आर यू फर्स्ट पर्सन और सेकंड पर्सन इन के जब प्रयोग करेंगे तो बिल का प्रयोग करने आई विल गो डेविल को समझाना इसमें आधार के लिए उसमें सेल का प्रयोग ही सेंड नहीं कहेंगे ही बिल को देश हल्के का प्रयोग करेंगे देश है ल्को राम एंड सीता सेल गो देयर एवरीडे इस प्रकार से उस में प्रयोग करते हैं

#टेक्नोलॉजी

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:41
जी हां एक समय था कि बगैर घड़ी का लोगों को काम नहीं चलता था लोग हाथ में घड़ी बांधकर के चलते थे नए पॉकेट गाड़ी भी रखा करते थे कि धीरे-धीरे करते-करते घड़ी पेन में भी आगे लोग पहले भी अपने घड़ी लगाकर चलने लगे लेकिन जब से मोबाइल में घड़ी आ गई है तुम लोगों ने घड़ी बांधना शुरू करती है बहुत ही कोई फैशन बाज हो तो वह फास्ट ट्रैक किया मतलब आजकल बहुत 16000 20000 की घड़ी केवल अपनी वैल्यू बढ़ाने के लिए लगाया वह बात अलग है लेकिन सच्चाई तो यही है कि जब से मोबाइल में घड़ी के समय आने लगा है तो सारे समय जो है बिल्कुल घड़ियों की दुकानों की बिक्री फीकी पड़ गई है सही बात तो यही है

#स्वास्थ्य और योग

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
2:12
लड़कियों के लिए ब्यूटी प्रोडक्ट की तो दुकान लगी हुई है जितने भी ड्यूटी प्रोडक्ट आ जाए कम है तो पहले तो मैं आपको बता रहा हूं ब्यूटी प्रोडक्ट में आप सबसे पहले तो बालों के लिए लीजिए बालों में सबसे बढ़िया ऐसे तेल का इस्तेमाल कीजिए जिससे बाल आपके घुंघराले काले बने रहें नंबर 1 पूछड़े नहीं झड़ते हैं तो भी बालों की सुंदरता खत्म हो जाती है बुरे हो जाते हैं तरह-तरह के तेलों का इस्तेमाल ना कीजिए और अगर आप बालों को स्वस्थ रखते हैं तो आप एक ही प्रकार के फिल्टर और नारियल का तेल इस्तेमाल किया शिकाकाई वाला केवल एक ही तेल इस्तेमाल कीजिए कोई बदल लिया मैंने बहुत जल्दी बाल सफेद हो जाते हैं इसके बाद बालों के लिए बढ़िया छोटी ले लीजिए बालों के लिए हेयर बैंड भी आता है वह भी ले लीजिए कान के लिए झुमके भी आते हैं और बाली भी आते हैं टॉप्स भी आते हैं ना के लिए नथनी भी आती और कील भी आती है पुंगी भी आती है तो इस वक्त क्या आपको पसंद है उसमें अब चेहरे के लिए हम आपको बताएं चेहरे के लिए इसमें ले सकते हैं फेस पाउडर ले सकते हैं और क्रीम ले सकते हैं फाउंडेशन ले सकते हैं और तमाम तरह के फाउंडेशन अलग-अलग रंग के आते हैं उनको भी ले लीजिए इसके लिए सबसे बढ़िया जो ब्यूटी प्रोडक्ट में अगर आप चाहते हैं रात को एक चम्मच मलाई ले लीजिए उसमें एक चुटकी हल्दी डाल दीजिए थोड़ा सा उसमें पाउडर पाउडर मिला लीजिए इसको धीरे-धीरे धीरे-धीरे उस पर पाउडर के ना हो तो इतने बेसन मिला लीजिए धीरे-धीरे उसको पूरा मत कर के चेहरे पर लगा दीजिए तो उस दिन की तरह और इसके बाद उसको अच्छी तरह मालिश करके उत्तर लगा लीजिए सुबह उसको जो है गुनगुने पानी से धो डाले यह प्रक्रिया 1 महीने कीजिए आपके चेहरे का ग्लो जो है बगैर किसी ब्यूटी प्रोडक्ट की हमेशा चमकता रहेगा चेहरे में कसाव रहेगा चेहरा सुंदर लगने लगेगा गोरा गोरा मुंह भी आपको काला मूवी आपको बुरा दिखने लगेगा सारी झांकियां समाप्त हो जाएंगे फिर इसके बाद आप फाउंडेशन लगा करके कहीं भी घूम लिए आकर्षण का केंद्र बिंदु बन जाएंगे आप

#जीवन शैली

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:48
शर्ट और पेंट बनाने के लिए देखिए आप का साइज कितना है आपने नहीं बताया कि 6 साल के बच्चे का है कि 5 साल के बच्चे का है कि 10 साल का है कि पूरा मतलब 20 से 22 साल के बच्चे का है या मतलब मोटे ताजे आदमी का हर आदमी के नाम अलग-अलग होगी ना छोटे बच्चे का है तो आधा आधा मीटर में पेंट बन जाएगा और 5 मीटर में शर्ट बन जाएगी 12 साल के बच्चे का है यह 15 साल के बच्चे का है तो 1 मीटर काली पैंट का कपड़ा लग जाएगा गेट मीटर शर्ट का लगेगा 20 से 22 साल का है तो आपका देख रहे होंगे तो 120 की जो आती तो दो 40 पॉइंट के लग जाएगा पदों से सवा 2 मीटर शर्ट के लिए लग जाएगा तो हर एक का नाम अलग अलग होगा कितने बड़े हैं आप हम आपको जब ना बोले तब कपड़े के बिना बता दे आपको

#टेक्नोलॉजी

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:37
हेलो धूप में बैठने से रंग सांवला नहीं होता सूर्य भगवान की जो धूप है यह बिल्कुल विटामिन डी का भरपूर स्रोत है और विटामिन डी शरीर के लिए बहुत ही जरूरी है इससे हमारी हड्डियां मजबूत होती हैं हमारी आंखों की शक्ति जो है मतलब यह कि उसमें भी मजबूती आती है रिया का धूप कम हो तो मैं दिखाई दिया कम पड़ता है इसलिए उनकी आंखों की ज्योति को बढ़ाने का भी कार्य करती है पेड़-पौधों को ही जीवन प्रदान करती है पेड़-पौधों में क्लोरोफिल बनता है और वह क्लोरोफिल कमेंट्स रोजा सूरी की रोशनी होती है सूर्य की रोशनी से हमारी फसलें पकती है तो यह बहुत ही ताकतवर चीज असुर जो हमको हमारी प्रकृति ने हम को उपलब्ध कराया जी इसीलिए हम इसको साक्षात देवता के बिल्कुल साक्षात मतलब देव में सूर्य भगवान इसलिए कहा जाता है ज्यादा उपयोग करेंगे तो नुकसान हो सकता है रंग सावला हो जाता है लेकिन इतना सावला भी नहीं था जब रोज मुझे उसने करने लगेंगे तो जैसे किसी चीज में आग में कोई चीज देखते हैं तो झावर पड़ जाती है काली पड़ जाती है उसी तरह इसमें भी हो सकता क्योंकि इसमें भी अग्नि तत्व का वास होता है इसलिए उतना ही मतलब धमक चाहिए जितनी आवश्यकता है कम से कम आधा से 20 से 30 मिनट के बीच धूप में बैठकर के धूप सीख लीजिए ताकि आपको शरीर की पूजा फिर से रिचार्ज हो जाए तो ज्यादा बैठेंगे घूमेंगे मजबूरी में तो कोई बात नहीं है लेकिन ज्यादा देर धूप में टहलना निकलना इससे जो है चेहरे का ग्लो जो है वह कमजोर पड़ जा

#जीवन शैली

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:45
देखिए फैशन में तो हमेशा जो है जो रहेगी वह आपके अंडरवियर बनियान वह हमेशा रहेगी अंग्रेजों महिलाओं में बुरा थोड़ा फैशन कटिंग बदले बदल जाएगी पैंट शर्ट हमेशा चलता लेकिन अभी बदलता रहता है कहीं एलिफेंटा हो जाता कहीं तो हो जाता है कुछ भी हो जाता है लेकिन आपका अंडरवियर बनियान या नहीं बदलेगा और खाने-पीने में दाल चावल सब्जी रोटी यह चार चीजें फैशन में हमेशा यही रहेगी इसके अलावा और आपको बदलेंगे तो आपका पेट खराब हो जाएगा ये मजबूरी भी और फैशन भी है जितने बड़े-बड़े होटल में चले जाइए 4:00 बजे 56 प्रकार के भोजन हो दाल चावल आप नहीं खाएंगे तो आपका पेट नहीं भरेगा फायदे

#पढ़ाई लिखाई

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:31
भैया अंग्रेजी की इनसाइक्लोपीडिया तो बहुत बड़ी है और बहुत से ऐसे शब्द हैं जिनको हम रोज अपने बोलने में इस्तेमाल करते हैं जैसे सबसे बड़ा सच तो यह है कि सारी कोई भी गलती कर दे सॉरी और सारी मैं आजकल को क्षमा करना कोई नहीं कहता प्यार मैं तुमसे प्यार करता हूं कोई नहीं कहता हूं कि आई लव यू किस लिए सबसे ज्यादा प्रसिद्ध शब्द हैं वह सॉरी शब्द

#स्वास्थ्य और योग

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
2:09

#स्वास्थ्य और योग

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:47

#जीवन शैली

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:39
पहले के समय में जब विधवा को क्षति होने के लिए मजबूर किया जाता था कि जब आदमी मर जाता था तो मतलब उसका पति जो तू उसको जबरदस्ती उसमें झूठ भी दवा भी धीरे-धीरे राजा राममोहन राय ने विधवा विवाह की प्रथा चलाई लेकिन इसके पहले कहते हैं जब पुरुष नहीं है तू कि समाज में पुरुष प्रधान है जो पुरुष मर गया है तो किसके लिए संघार करेंगे तो उसमें श्रंगार अच्छा न मानते हुए उसमें सुरक्षित सफेद कपड़ों के लिए ही उसका दिया गया कि बिरहा सफेद कपड़े पहने रंग रंग ना लेकिन अब परिस्थितियां बदल गई है

#रिश्ते और संबंध

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:57
पुरुषों का सबसे उत्तम फैशन पैंट और शर्ट किले और जातो कुर्ता और पैजामा और हमारी युवा भारतीय वेशभूषा में कुर्ता धोती टोपी सर्जरी और भी चीजें होती है अगर कुर्ता धोती सरी जो है इसका घर प्रचलन हो जाए तो हमारी भारतीयता अपने आप जल झलक न लगे कि आजकल हमारे जो ड्रेस कोड में पेंट शर्ट घड़ी एक कार्यालय के कोरा में माना गया है इसलिए उसको चालू किया गया है लेकिन हमेशा फैशन कपड़े अपने अपने हिसाब से पहनना चाहिए जिसमें लोगों को थोड़ा सा शारीरिक रूप से उसमें स्वतंत्रता महसूस हो और किसी प्रकार का कथन हो कपड़े ज्यादा असरदार नहीं होनी चाहिए ज्यादा ढीले होने चाहिए आंखों को मतलब यह कि चुगने वाले ना हो आसानी से जिसमें विनम्रता झा लगती हो ऐसे कपड़े पहनना चाहिए

#जीवन शैली

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:03
ऐसा कुछ नहीं है कि दुनिया में सभी औरतें जो हर लालची होती है और उनको यह बोले मस्ती अच्छे लगते हैं जो समाज से बिल्कुल अपने आपको अलग और जो बहुत खर्चीली होती है जिनके लिए पैसा ही सब कुछ होता है प्यार कुछ नहीं होता है वह और कुछ नहीं सर की होती हैं लोगों में सुशील सुंदर और सामान्य परिस्थितियों में अपने आप को पालन करने वाली होती हैं वह हमेशा एक सौंदर्य वाले विनम्र पुरुष कोई पसंद करते हैं चाहे जैसा भी हो क्योंकि पैसा तो जीवन का एक माइक होता है और वह आता जाता रहता है कभी परिस्थितियां अच्छी होती हैं कभी परिस्थितियां बुरी हो जाती हैं चाहे जितना पैसे वाला हो तो ठीक-ठाक से पैसे को खर्च नहीं करता है तो वह कभी भी डाउन फॉल किस चीज में जा सकता है इसलिए ऐसा नहीं है जो लोग भी प्रकट की औरतें होती हैं विनम्र नहीं होती हैं हमेशा के चालू होती है और दूसरों से गुस्सा करके और उनसे बढ़-चढ़कर के अपने आपको समाज में प्रदर्शित करना चाहते हैं चाहे मन के अंदर योग्यता बिल्कुल ना हो लेकिन उन कीजिए हमेशा पैसे पे रहती है इस तरीके समाज में आजकल काफी औरतें देखी जा सकती

#टेक्नोलॉजी

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:15
देखिए पहले क्या होता था कि ब्लाउज के बटन आगे की तरफ होते थे और पहले लड़कियां हाथों में उतना ब्रा पहनने का प्रचलन नहीं था तो चुकी स्तनों के कुछ दिमाग सारी स्त्रियां होती उनके स्तन उन्होंने बटन के बीच वाली जगह से थोड़ा सा अच्छा लगने लगते थे तो जो हमारे संस्कारों के खिलाफ होता तो तुझे धीरे-धीरे यह परिपाटी आई तो भाई अगर ब्लाउज के बटन ज्वाइन पीछे की तरफ लगा लिए जाएंगे तो उसे किसी भी प्रकार की मतलब यह हमारी जो परंपराएं हैं उनमें कोई बाधा नहीं होगा लोग उस में डूबने से दो लोगों की गंदी नियत हमारी रक्षा स्थलों पर नहीं जा सकती है क्योंकि एक मानवीय दिक्कत होती है कि अगर कहीं से कुछ अलग रहो देता दिखाई पड़ता है तो लोग उसे बड़े गौर से देखने लगते हैं विवेक जाकर विषय होता है इसलिए पीठ के बताना मैं वह ब्लाउज के बटन में सब पीछे की तरफ रखे गए हैं थोड़ा सा एक मानवीय परंपराओं का परिपालन करने के लिए यह पद्धति अपनाई गई है हालांकि अब औरतें ब्रा पहनती है लेकिन पूरा पहनने के बाद दूसरी से रखने से उसमें थोड़ा सा समय में कसाव भी महसूस होता है और ठीक तरीके से ढके भी रहते हैं और खूबसूरत फिल्म

#जीवन शैली

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:55
ठंड में ऊनी कपड़े पहनने का एक ही मकसद होता है कि हम अपने शरीर के ताप को संतुलित बनाए रखें अंदर से हमारे जाड़े के दिनों में गर्मी रहती है शरीर के अंदर और गर्मी के दिनों में पसीना उसको तड़पता है ठंडा बनाए रखता है लेकिन हमें उपर्युक्त बायकोचा को सुरक्षित रखने के लिए वातावरण से हमें अन्य प्रकार की मतलब यह कि तरीके अपनाने पड़ते हैं उसके लिए हमें गर्म कपड़े पहन पहन लेते हैं तो हम अपने शरीर को ऊनी कपड़े क्योंकि उन्होंने जो है वह वगैरह है और इन सब को सुरक्षित रखती हो सके तो वह एक आधार माना गया है उन्हीं का भविष्य हमारे शरीर को गर्मी मिलती है और हमने प्राकृतिक वातावरण के अनावश्यक ठंडी और गर्मी से अपने आप को बचा सकते हैं इसलिए हम उन्हीं कपड़े

#जीवन शैली

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:29
उन लड़कियों के विषय में क्या सोचते हैं जो कभी मेकअप नहीं करते दिखे दो चीज हैं या तो इतनी गरीब है कि मेकअप का इस्तेमाल नहीं कर पाते हैं या उनके अंदर अपनी प्रतिभा और इतना शारीरिक सौंदर्य है तूने मेकअप की आवश्यकता नहीं पड़ती लेकिन शरीर को सजाने संवारने के लिए थोड़ा बहुत मेकअप की आवश्यकता होती है मेकअप से सौंदर्य और आकर्षण बढ़ जाता है जिस प्रकार से कहते हैं कि पहले लिपि पोती दुवरिया और पहने उड़े मेहरिया जो औरत की सुंदरता जो आभूषण से ही होती है तुमने कब से आभूषण से सुंदरता बढ़ाते हैं घर में गर्म कालीन बिछा देते हैं सूखे के नीचे तो उसे सुंदरता बढ़ जाती है हर जगह होता है कुछ ना कुछ मेकअप करने के विभिन्न तरीके अपनाए जाते हैं तो मजबूरी में ना करें एक बार बात अलग है लेकिन बहुत से विदेशी महिलाएं होती हैं उनके चेहरे से झलकता था जिनको मेकअप की कोई आवश्यकता नहीं होती है तो उन लोगों को छोड़ कर के और मेकअप तो स्त्री सरदार तो स्त्री का कहना होता है और उसको तो करते हैं क्या वह एक अलग प्रगति मतलब एक जने नहीं होती है इसलिए मैं तो जाऊंगा तो भाई हल्का-फुल्का मेकअप करते रहना चाहिए और चेहरे की मालिश हमेशा मलाई से हल्दी से और मैं थोड़ा सा चिरौंजी पीस करके मिला ले इससे प्रतिदिन उत्तर लगाएं चेहरे पर देखिए फिर कभी चाहे कोई मेकअप करें तो हम ना करें उसमें वैसे ही शरीर में चेहरे पर ग्लो जो से आकर्षण पैदा करता रहेगा

#जीवन शैली

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:16
40 वर्ष की उम्र के बाद महिलाओं को कैसे मेकअप करना चाहिए मेकअप तो देखिए मन की प्रसन्नता के लिए होता है कि हम अपने आप को कैसे प्रस्तुत करें बहुत से लोग होते हैं कुछ भी मेकअप नहीं करते हैं और वैसे भी उनकी खूबसूरती झलकती रहती है तपेदिक तेल फुलेल क्रीम कंघी से नकली रूप बनाएंगे या अपने सौंदर्य लहू को आनंद पर चमका आएंगे तो मैं 40 साल के महिलाओं से यही अनुरोध करना चाहता हूं कि पहले अपने शरीर को थोड़ा सा सस्ता उसमें बड़ा हूं उस में कसाव लाने कसाव लाने के लिए उनको कपालभाती है प्राणायाम इन सब चीजों करें थोड़ा सा व्यायाम करें तो शरीर में थोड़ा कसावा जाएगा चेहरे के थोड़ा सा हल्दी नारियल का तेल और मलाई डाल कर के उसको मालिश करें तो उसमें थोड़ा सा ग्लो भी आ जाएगा इसके बाद हल्का-फुल्का हल्दी डालकर करीमलाई हो और मालिश करेंगे तो सोता है आपके चेहरे की कांति हल्के की इसके बाद जवाब कहीं जाए तो उसे चेहरे के ऊपर अब थोड़ा सा कुछ फौंडेशन वगैरा लगा ले उतना ही कब पर्याप्त सबूत नहीं मिली आप जो है नौजवानों को माफ कर देंगे

#धर्म और ज्योतिषी

bolkar speakerस्वर किसे कहते हैं?
पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
1:00
हिंदी में स्वर और व्यंजन दो होते हैं स्वर होते जिनके माध्यम से 500 होते जिस अंग्रेजी में होते हैं कि आई ओ यु और बाकी व्यंजन होते हैं व्यंजन शब्द होते हैं और शब्द में जो मात्र लगाई जाती है उस पर की परिभाषा में आते हैं जैसे राम आपने लिख दिया तो बड़े आ की मात्रा कर अपनी लगा दिया उसका स्वर क्या हो गया राम किसलिए जब व्यंजनों में स्वर का समावेश करके उसके भाव अभिव्यंजना को प्रकाशित किया जाता है और 1 लोगों में नए शब्द का आभास होता है उसको स्वर्ग कहते हैं स्वर्ग के माध्यम से हम साहित्य की सभी विधाओं में एक नवीन रूप की संरचना करते हैं

#खेल कूद

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:37
किस देश को जीवनदायिनी गैस कहा गया है दूसरा आजकल जीवनदायिनी गए तो हमारी ऑक्सीजन ही है बगैर ऑक्सीजन के हमारी सांस नहीं चल सकती है जब आप भी बहुत बीमार हो जाता है साथ में लेकर वापसी जो भी लगाई जाती रे दिल्ली जीवनदायिनी का इस ग्रुप में अगर हम कहें तो उसको हम ऑक्सीजन कैसे मानेंगे और इसके अलावा और बहुत सी जगह से हैं इसमें हिंदी है सीएनजी मोटर चलाने के लिए जरूरी हो गए श्याम अरे एलपीजी है वह भी जीवनदायिनी कैसे मानी जाती क्योंकि उस के माध्यम से थोड़ा जला कर के देश में खाना बनाते हैं लेकिन सबसे जो वास्तविक जीवनदायिनी ऑक्सीजन गैस

#स्वास्थ्य और योग

पुरुषोत्तम सोनी Bolkar App
Top Speaker,Level 33
सुनिए पुरुषोत्तम सोनी जी का जवाब
साहित्यकार, समीक्षक, संपादक पूर्व अधिकारी विजिलेंस
0:49
हमारे शरीर में 70 भाग पानी हो तो 70% और नमक और सारे मित्र हमारे शरीर में होते हैं कि जब मैं इंद्र होते हैं और जिन जिन क्षेत्रों से पानी हमारा बाहर निकलता है वह आंखों से हो क्या पसंद नहीं करते हो चाहे यूरिन से या किसी और पदार्थ में हो तो उन मिनरल्स के दो भाग होते हैं 19 वर्ष का जो टेस्ट होता है वह जली पदार्थ के माध्यम से बाहर निकलता है इसलिए आंख क्यों है वह पानी का एक आंसर शरीर की कितनी जवान गोश्त निकलता है किस लिए हो नमकीन होते हैं क्योंकि वहां पर दया लाल मिलाकर के मुंह में चला जाता है उसमें आपको सब मालूम है पसीने की मात्रा में भी आप देखते हुए पसीना निकलता तो सफेद सफेद चादर में जनजातियों को नमक की मात्रा होती है सोडियम क्लोराइड किसे कहते हैं उसी प्रकार से अन्य स्थितियों में भी यही स्थिति में होते हैं
URL copied to clipboard